Morena News : पटाखा कारखाने में हुआ विस्फोट, 4 की मौत, 7 घायल

हालाँकि अभी ये पता नहीं चल सका है कि गोदाम में रखे पटाखे वैध है या यहाँ अवैध पटाखा फैक्ट्री संचालित हो रही थी।

मुरैना, संजय दीक्षित। बामोर थाना क्षेत्र के जैतपुर रोड स्थित भूरा सरपंच के मकान में अचानक हुए धमाके से पूरा क़स्बा दहल गया। दसअसल यहाँ संचालित पटाखा कारखाने में हुए विस्फोट से चीख पुकार मच गई।  हादसे में दो बच्चों सहित चार लोगों की मौत हो गई। जबकि सात घायल हो गए, दो लोगों की गंभीर हालत बनी हुई है घायलों को ग्वालियर रेफर कर दिया गया है। पटाखा कारखाना गोहद निवासी जमील खां का बताया गया हैं जिसको किराए पर लेकर संचालित कर रहा था। इसी मकान के एक हिस्से में निर्मल जैन की किराने की दुकान थी। हादसे में वह भी घायल हो गया है।

हादसे के मृतकों में पटाखा कारखाने के संचालक जमील खान की पत्नी अन्नो खां, उसकी आठ साल की बेटी जोया, पप्पू उर्फ जितेंद्र गुर्जर पुत्र महेंद्र सिंह निवासी ग्राम पहाड़ी एवं गोलू उर्फ विजय पुत्र दिलीप प्रजापति, निवासी बानमोर शामिल हैं। हादसे में कारखाना संचालक जमील खां पूरी तरह सुरक्षित है। हादसे के वक्त वह घर के बाहर चला गया था। घायलों में किराना दुकान संचालक निर्मल जैन को ग्वालियर अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कारखाना संचालक जमील के बेटे शहीद खां, अमीन खां एवं नवीन खां, विशाल बाल्मीकि एवं राज बाल्मीकि निवासी जैतपुर रोड बानमोर को ग्वालियर में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है।

ये भी पढ़ें – Lokayukta Action : 10,000 रुपये की रिश्वत लेते पटवारी रंगे हाथ गिरफ्तार

मकान में जब विस्फोट हुआ तब कारखाना संचालक जमील छत पर गया हुआ था। जमील का कहना है कि दोनों बेटे काम पर जाते हैं, वे खाना खाने के लिए घर आए थे तभी हादसा हुआ हैं। उधर आसपास के लोगों का कहना हैं कि करंट से हादसा हुआ होगा, तो कोई अगरबत्ती का टुकड़ा गिरने से विस्फोट बता रहा है। जमील के अनुसार यह पटाखे उसने बेचने के लिए मंगवाए थे। किराने की दुकान करने वाले निर्मल की पत्नी ने बताया कि उसका निवास दूसरी जगह है। पति किराने की दुकान पर थे, तभी हादसा हुआ हैं।

ये भी पढ़ें – मुरैना में एक और हादसा, धमाके के बाद अब बच्चों से भरी बस में ट्रक ने टक्कर मारी, 12 बच्चे घायल

पुलिस इस हादसे में अपनी उदासीनता पर गोलमोल जवाब दे रही है। पुलिस का कहना है कि यह जांच का विषय है कि जमील कारखाना संचालित करता या उसने बेचने के लिए मंगवाकर भंडारण किया था। इसके साथ ही कांग्रेस विधायक राकेश मावई ने कहा कि हर साल बामोर एवं आसपास पटाखों में विस्फोट से हादसे होते हैं। इसके बावजूद पुलिस मूक बनी रहती है। पुलिस ने निगरानी नहीं की इस वजह से बस्ती के बीच पटाखों का निर्माण और भंडारण हुआ हैं।जिस कारण हादसा हुआ हैं। मुरैना कलेक्टर बी कार्तिकेयन का कहना है कि घटना की जाँच कराई जाएगी।