IIM Indore ने गाड़े झंडे, कोरोनाकाल में भी हुआ 100 फीसदी प्लेसमेंट

आईआईएम इंदौर (IIM Indore) द्वारा जारी की गई प्लेसमेंट रिपोर्ट में बताया गया कि 2022 बैच के 575 छात्रों का प्लेसमेंट हुआ है, साथ ही इन्हें बीते साल के मुकाबले 7 प्रतिशत ज्यादा स्टाइपेंड मिला है।

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। कोविड -19 (Covid-19) संकट के कारण हुई आर्थिक मंदी (Inflation) में लोगों की नौकरियां चली गई, कई लोगों को काम से तो नहीं निकाला गया पर सैलरी में काफी गिरावट कर दी गई। कोरोना काल (Corona Period) में आए आर्थिक संकट के बावजूद भी इंदौर के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (Indian Institute of Management, Indore)  में 100 फीसदी प्लेसमेंट (100 percent placement) हुआ है। साथ ही पिछले साल के मुकाबले इस साल छात्रों को 7 प्रतिशत ज्दाया स्टाइपेंड (Stipend) मिला है। आईआईएम इंदौर (IIM Indore) द्वारा जारी की गई प्लेसमेंट रिपोर्ट में बताया गया कि 2022 बैच के 575 छात्रों का प्लेसमेंट हुआ है, साथ ही इन्हें बीते साल के मुकाबले 7 प्रतिशत ज्यादा स्टाइपेंड मिला है। पिछले साल औसत स्टाइपेंड 1.68 लाख रुपये (दो महीने के लिए) था जो कि इस साल 1.8 लाख रुपये रहा।

100 फीसदी मिला प्लेसमेंट

वहीं आईआईएम इंदौर (IIM Indore) के निदेशक प्रोफेसर हिमांशु राय ने 100 फीसदी प्लेसमेंट की जानकारी देते हुए कहा कि “हमें खुशी है कि एक बार फिर से देश के शीर्ष रिक्रूटर्स ने घोर कोविड -19 परिस्थितियों के बावजूद भी हमारे छात्रों में अपना विश्वास को दोहराया है। हमारा उद्देश्य है कि हम उद्योग के साथ अपने संबंधों को मजबूत करते रहें, जिससे विश्व स्तरीय और प्रासंगिक पाठ्यक्रम की पेशकश की जा सके।” यह हमारे प्रतिभागियों के कौशल को बढ़ाता है और उन्हें सामाजिक रूप से संवेदनशील नेताओं और प्रबंधकों के रूप में विकसित करता है।

भारत का दूसरा बिजनेस स्कूल

बता दें कि साल 2019 में आईआईएम इंदौर (IIM Indore) ने ईएफएमडी क्वालिटी इंप्रूवमेंट सिस्टम की मान्यता प्राप्त की थी, साथ आईआईएम इंदौर (IIM Indore)ट्रिपल क्रॉउन प्राप्त करने वाला भारत का दूसरा बिजनेस स्कूल बन गया है। गौरतलब है कि दुनिया के शीर्ष 100 ट्रिपल क्रॉउन मंत्र प्राप्त संस्थानों की सूची में आईआईएम इंदौर (IIM Indore) भी शामिल हो चुका है। आईआईएम इंदौर (IIM Indore) के फाइव ईयर इंटीग्रेटेड प्रोग्राम इन मैनेजमेंट, पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट के 575 स्टूडेंट्स का प्लेसमेंट हुआ है। स्टूडेंट को रिक्रूट करने 190 कंपनियां आई थी। बता दें कि प्लेसमेंट हुए छात्र अलग-अलग कंपनियों में दो माह के लिए इंटर्नशिप करेंगे। 2 महीने की इंटर्नशिप के दौरान छात्रों को एवरेज 1.83 लाख रुपये प्रति माह स्टाइपेंड मिला है, जबकि बीते साल इन्हें 1.68 लाख रुपए स्टाइपेंड मिला था। कोविड-19 के कारण इस साल सबसे ज्यादा गिरावट आई है। जहां बीते साल 4 लाख रुपए सबसे ज्यादा स्टाइपेंड था वो इस साल 3.2 लाख रुपए ही रहा।