दतिया/बडोनी।सत्येन्द्र सिंह रावत

अनुविभाग के बड़ोनी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम भासड़ा बड़गोर, लमकना सहित कई गांवों में बड़े पैमाने पर रेत का उत्खनन पिछले डेढ़ महीने से शुरू हो चुका है। यहां 1-2 नही बल्कि आधा सैंकड़ा से अधिक घाटों से रेत का अवैध उत्खनन किसी प्रधान नामक पुलिस के व्यक्ति के संरक्षण में किया जा रहा है। उक्त अवैध उत्खनन में बड़ोनी पुलिस की मिलीभगत बताई जा रही है। तभी तो खुलेआम जेसीबी मशीनों के माध्यम से रेत निकासी की जा रही है।

वर्तमान में यहां से ग्वालियर, दतिया, झांसी, गुना, शिवपुरी तक रेत की सप्लाई ट्रेक्टरों व डंफरों के माध्यम से हो रही है। प्रतिदिन उक्त अवैध खदानों से लगभग 100 से 150 ट्रेक्टर व इतने ही डम्फर रेत के भराये जा रहे है। ऐसा नही है कि उक्त अवैध रेत उत्खनन की जानकारी पुलिस विभाग के अधिकारियों को नही है लेकिन ऊंट की चोरी कभी नोहरे-नोहरे नही होती।

इसलिए यहां बड़ोनी पुलिस को प्रति ट्रेक्टर 800 रुपये व डंफरों से 2000 रुपये का नजराना दिया जाता है। जिसके चलते माफिया खुलेआम इन अवैध खदानों पर अफसरानों के आशीर्वाद से अवैध रेत उत्खनन संचालित कर रहा है। उक्त खदानों का इतने बड़े पैमाने पर प्रदेश के गृहमंत्री जी के क्षेत्र में संचालन होना कही न कही कद्दावर मंत्री जी की जन लोकप्रियता पर पानी फेरता नजर आता है।अब देखना यह होगा कि दतिया जिले के एसपी साहब, कलेक्टर साहब एवं जन लोकप्रिय कद्दावर मंत्री जी आखिर कब तक उक्त खदानों को बन्द करवा पाते है..?