मंत्री ना बनाए जाने से नाराज ‘शेरा’ का बड़ा बयान

Burhanpur-MLA-shera-bhaiyya-statement-on-government-

भोपाल।

इन दिनों कमलनाथ सरकार(kamalnath sarkar) के अंदरखानों में कुछ ठीक नही चल रहा है, कभी मंत्रियों अधिकारियों के विवाद की खबरे आ रही है तो कभी अपनों की नाराजगी की।अब लंबे समय से आंखो में मंत्री बनने का सपना लिए बुरहानपुर(burhanpur) से निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा(mla surendra singh shera) का दर्द फिर छलका है।शेरा का कहना है कि अच्छे बैट्समैन की जरूरत बाद में पड़ती है, जब कम ओवरों में ज्यादा रन बनाने होते हैं। तब अपने सबसे अच्छे ऑल राउंडर बैट्समैन को मैदान में उतारा जाता है।शेरा के इस बयान के कई सियासी मायने निकाले जा रहे है।हालांकि यह पहला मौका नही जब शेरा नाराज हुए हो।  इससे पहले भी शेरा कई बार नाराजगी जाहिर कर चुके है और समर्थन देने को लेकर भी सवाल खडे कर चुके है, बावजूद इसके उनकी तरफ कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।

दरअसल, राज्य में कांग्रेस(congress) के पास 114 विधायकों का समर्थन है। इसमें बहुजन समाज पार्टी (bsp) के 2 विधायकों, समाजवादी पार्टी (sp) के 1 और 4 निर्दलीय विधायकों का समर्थन है।खास बात ये है कि कमलनाथ(chief minister kamalnath) की अल्पमत सरकार को जब वह समर्थन दे रहे थे तभी उन्हें यह विश्वास दिलाया गया था कि उन्हे जल्द मंत्री बनाया जाएगा। सवा साल बीत गया लेकिन वादा अभी वादा का वादा ही है । मंत्री बनने का इंतजार कर रहे शेरा मायूस है लेकिन उम्मीद कायम है।शनिवार को मीडिया से चर्चा करते हुए शेरा ने कहा कि अच्छे बैट्समैन की जरूरत बाद में पड़ती है, जब कम ओवरों में ज्यादा रन बनाने होते हैं। तब अपने सबसे अच्छे ऑल राउंडर बैट्समैन को मैदान में उतारा जाता है। उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ ने उन्हें दो बार मंत्री बनाए जाने का आश्वासन दिया। एक बार जब वे जीतकर भोपाल पहुंचे तब, दूसरी बाद जब लोकसभा चुनाव में पत्नी ने नामांकन दाखिल किया। इसके बाद अब तक की पूरी कहानी सबके सामने है।मंत्री बनाए जाने के पीछे शेरा का तर्क है कि वे अपने विस क्षेत्र के लिए काफी काम करना चाहते हैं। मेरे मंत्री बनने से पॉवर बढ़ेगा, ऐसे में मेरे क्षेत्र में विकास की गति और तेज हो जाएगी।

यह पहला मौका नही है इससे पहले भी शेरा पार्टी को अपने तीखे तेवर दिखा चुके है। बीते दिनों ही उन्होंने अपनी सरकार को घेरा था और समर्थन वापस लेने तक की धमकी दे डाली थी, इसके बाद मुख्यमंत्री से उन्होंने मुलाकात की थी और उन्हें आश्वासन मिला था कि मंत्री बनाया जाएगा, लेकिन अबतक इस पर कोई एक्शन नही लिया गया है, जिसके चलते बार बार शेरा की नाराजगी मीडिया के सामने झलक रही है।शेरा के अलावा कई कांग्रेस विधायक भी मंत्रिमंडल विस्तार का इंतजार कर रहे हैं।देरी के चलते विधायकों में सरकार के प्रति नाराजगी बढ़ने लगी है।इससे पहले रामबाई, लक्ष्मण सिंह, केपी सिंह समेत कई विधायक अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके है।