Indian Railways ने यात्रियों को दी बड़ी राहत, डेढ़ साल बाद अब संचालित होगी ये ट्रेन

रेलवे बोर्ड द्वारा जारी एक सर्कुलर के अनुसार उपनगरीय ट्रेन यात्रा के लिए कोई स्टेशन विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा।

indian railway irctc

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। लंबी दूरी करने वाले यात्रियों (Indian railways passenger) की यात्रा थोड़ी महंगी हो सकती है दरअसल इंडियन रेलवे (IRCTC) द्वारा लंबी दूरी की ट्रेन यात्रा में यात्रियों के बोर्डिंग (boarding) पर अब रेलवे यात्रा की श्रेणी (category) के आधार पर 10 रूपए से लेकर 50 रूपए तक स्टेशन विकास शुल्क लगाने की योजना बना रहा है। हालांकि अभी तक इस पर कोई योजना तैयार नहीं की गई है लेकिन इंडियन रेलवेज तैयारी में हैं। अधिकारियों का कहना है कि बुकिंग (booking) के दौरान ट्रेन टिकट में शुल्क जोड़े जाने की संभावना है। वही ऐसे स्टेशनों (station) को चालू होने के बाद इस योजना को लागू किया जा सकता है।

इसी बीच इंडियन रेलवे ने मध्य रेलवे यात्रियों को बड़ी राहत दी। रेलवे द्वारा करीब डेढ़ साल के बाद अब इंदौर से भंडारकुंड और छिंदवाड़ा से इंदौर के बीच पंचवेली फास्ट पैसेंजर ट्रेन का परिचालन शुरू किया जाएगा। इस ट्रेन को फास्ट पैसेंजर से एक्सप्रेस ट्रेन में परिवर्तित किया जाएगा। वहीं गाड़ी संख्या में भी परिवर्तन किए जाएंगे।

Read More : विपरीत परिस्थितियों में सफलता का मार्ग दिखाता है धैर्य- प्रवीण कक्कड़

दरअसल गाड़ी संख्या 59385 को 19343 इंदौर भंडारकुंड एक्सप्रेस और गाड़ी संख्या 59386 को 19344 छिंदवाड़ा इंदौर एक्सप्रेस किया गया है। इस मामले में रेलवे PRO खेमराज मीणा का कहना है कि गाड़ी संख्या 19343 को इंदौर भंडारकुंड एक्सप्रेस 15 जनवरी से अगले आदेश तक इंदौर से प्रतिदिन दोपहर 1:05 बजे संचालित होगी। वह अगली सुबह सुबह 4:40 पर भंडारकुंड पहुंचेगी। वही गाड़ी संख्या 19344 छिंदवाड़ा इंदौर एक्सप्रेस 16 जनवरी से अगले आदेश तक छिंदवाड़ा से प्रतिदिन रात 10:30 यानी 22:30 बजे संचालित होगी और दूसरे दिन दोपहर 12:45 बजे इंदौर पहुंचेगी।

गाड़ी संख्या 19343 इंदौर भंडारकुंड एक्सप्रेस देवास, असमिया, मक्सी, बेरछा, शुजालपुर, सीहोर, भोपाल, रानी कमलापति, इटारसी, सहेली, बैतूल आमला लालवाडी बरेलीपुर गांव छिंदवाड़ा शिकारपुर लिंगा सहित उमरानाला स्टेशन पर रुकेगी।

वही गाड़ी संख्या 19344 छिंदवाड़ा इंदौर एक्सप्रेस गांगीवाड़ा टाउन, खिरसाडोह, परासिया, जुन्नाारदेव, मोर्काधना, नावागांव, बरेलीपुर, बोरढल, बारची रोड, अमला, बैतूल, सहेली, कीरतपुर, इटारसी, होशंगाबाद, मंडीदीप, रानी कमलापति, भोपाल, सीहोर, कालापीपल, शुजालपुर, रनायला जसमिया एवं देवास स्टेशन पर रुकेगी।

रेलवे पुनर्विकसित स्टेशनों पर बोर्डिंग के लिए लगेगा शुल्क

अधिकारियों ने कहा कि बुकिंग के दौरान ट्रेन टिकट में शुल्क जोड़े जाने की संभावना है। ऐसे स्टेशनों के चालू होने के बाद ही शुल्क लगाया जाएगा। यूजर फीस तीन कैटेगरी में निर्धारित होगी। सभी एसी क्लास के लिए 50 रुपये, स्लीपर क्लास के लिए 25 रुपये और अनारक्षित क्लास के लिए 10 रुपये रखे जायेंगे। रेलवे बोर्ड द्वारा जारी एक सर्कुलर के अनुसार उपनगरीय ट्रेन यात्रा के लिए कोई स्टेशन विकास शुल्क नहीं लिया जाएगा।

ऐसे स्टेशनों पर यात्रियों को उतारने के लिए एसडीएफ ऊपर बताई गई दरों का 50 प्रतिशत होगा। एसडीएफ ऐसे सभी स्टेशनों पर एक समान होगा और एक अलग घटक और लागू जीएसटी के रूप में शुल्क लिया जाएगा, जिसके लिए निर्देश अलग से जारी किए जाएंगे। भारतीय रेलवे में आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न स्टेशनों का पुनर्विकास किया जा रहा है। पश्चिम मध्य रेलवे के रानी कमलापति स्टेशन और पश्चिम रेलवे के गांधीनगर राजधानी स्टेशन को विकसित और चालू किया गया है।