इंदौर में बुजुर्गों से अमानवीयता पर कैलाश विजयवर्गीय ने कम शब्दों में कह दी बड़ी बात

कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट के जरिये उन लोगों को निशाने पर लिया है, जो नगर निगम के कर्मचारियों द्वारा बुजुर्गों के साथ किये गए अमानवीय व्यवहार को इंदौर शहर पर कलंक की तरह जोड़ रहे हैं|

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर (Indore) में बेसहारा बुजुर्गों के साथ बदसलूकी के मामले ने मानवता को शर्मसार कर दिया है| मामले में शुरूआती कार्रवाई हो चुकी है, लेकिन इस अमानवीयता का वीडियो सारे देश में वायरल हुआ है और देश भर से इसकी तीखी आलोचना के साथ साथ बड़े अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग उठ रही है| इस बीच बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) का एक भावुक ट्वीट सामने आया है|

कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट के जरिये उन लोगों को निशाने पर लिया है, जो नगर निगम के कर्मचारियों द्वारा बुजुर्गों के साथ किये गए अमानवीय व्यवहार को इंदौर शहर पर कलंक की तरह जोड़ रहे हैं| कैलाश ने भावुक ट्वीट कर कहा- इंदौर स्वच्छता में तो अभी प्रथम हुआ है मगर मानवीय संबंधों में प्रथम पहले से है। इंदौर की पहचान नष्ट ना होने दे। मैं मन से दु:खी हूँ। कैलाश ने अपने ट्वीट के जरिये कम शब्दों में बड़ी बात कहते हुए उन जिम्मेदारों पर भी निशाना साधा है, जिनके कारण आज इंदौर में यह शर्मनाक घटना सामने आई है|

गौरतलब है कि शुक्रवार को इंदौर में नगर निगम के कर्मचारियों द्वारा भीख मांगकर गुजर बसर करने वाले बुजुर्गों को गाडी में भरकर एक जगह से दूसरी जगह ले जाकर छोड़ने का वीडियो वायरल हुआ था| वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा जमकर आलोचना की गई| वहीं मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में आया तो उन्होंने नाराजगी जाहिर की| उन्होंने जिला प्रशासन को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद नगर निगम के उपायुक्त प्रताप सोलंकी को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, दो कर्मियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। मामले में आगे और भी कर्मचारियों पर गाज गिर सकती है| मामले में बड़ी अधिकारियों पर भी कार्रवाई की मांग की जा रही है| वहीं इसको लेकर सियासी बयानबाजी भी जारी है|