इंदौर

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में चौथी बार इंदौर को पूरे देश में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ था। इसके बाद लगातार प्रयासों के चलते इंदौर नगर निगम (Indore Municipal Corporation) को श्रेष्ठ नगर निगम का अवार्ड (Best Municipal Corporation Award) मिला है। यह अवार्ड केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय (Union Ministry of Urban Development) ने इंदौर नगर निगम को दी है। बता दें कि यह अवार्ड निजी जनभागीदारी (Private participation) पर आधारित इंटीग्रेटेड सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट (Integrated Solid Waste Management) की श्रेणी में इंदौर को मिला है। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीपसिंह पुरी (Union Urban Development Minister Hardeepsingh Puri) की अध्यक्षता में मंगलवार को एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसी कार्यक्रम के दौरान जनाग्रह सिटी गवर्नेंस अवॉर्ड 2020 का ऐलान किया गया।

भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Union Urban Development Minister Hardeepsingh Puri) ने कहा कि ‘मैं इंदौर आर-3 कॉन्फ्रेंस (R-3 conference) में हिस्सा लेने पहुंचा था। तभी मेरे समकक्ष जापान से 1 दिन पहले इंदौर आए व्यक्ति से मेरी बात हुई। इस दौरान मैंने उनसे पूछा कि उन्होंने अब तक यहां क्या किया है, तो उन्होंने कहा कि मैं कब से इंदौर में कचरा ढूंढ़ने की कोशिश में लगा हुआ हूं, लेकिन इंदौर में मुझे कहीं भी कचरा नहीं दिखा। उन्होंने कहा कि सच में भारत का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर (India’s cleanest city Indore) ही है।’

मंत्री ने साझा किया अनुभव

इंदौर नगर निगम (Indore Municipal Corporation) को श्रेष्ठ नगर निगम का अवार्ड (Best Municipal Corporation Award) मिला है। इस अवार्ड को मंत्री जी से पूर्व महापौर मालिनी गौड़ (Former Mayor Malini Gaur) ने इंदौर नगर निगम की ओर से ग्रहण किया है। कार्यक्रम में मंत्री हरदीपसिंह पुरी ने अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि ‘मैंने एक बार किसी से पूछा था, कि किसी भी शहर को स्वच्छ व सुंदर बनाने के लिए क्या किया जा सकता है, तो जवाब में कहा गया कि एक अच्छा मुख्यमंत्री, एक अच्छा नगर निगम आयुक्त और एक अच्छा महापौर ही मिलकर इस कार्य को कर सकते हैं। जिसके बाद मंत्री ने पूर्व महापौर को इंदौर नगर निगम को श्रेष्ठ नगर निगम का अवार्ड मिलने पर बधाई दी है।