Jabalpur: केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों के बाहर उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ, कर्मचारियों में भारी आक्रोश

जबलपुर। संदीप कुमार

कोरोना वायरस(corona virus) संक्रमण के बचने के लिए सरकार और जिला प्रशासन जहाँ लोगों को सोशल डिस्टेंस(socialdistance) बना कर रखने और घरों में ही रहने की लगातार सलाह दे रहा है तो वही इस बीच जबलपुर(jabalpur) की केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों में कर्मचारियों(karamchariyon) का फैक्ट्री(factory) जाने के लिए मेला लगा रहा।

ये तस्वीर है ऑर्डन्स फैक्टरी खमरिया की। जहाँ फेक्ट्री प्रशासन के निर्देश पर हजारों कर्मचारी पहुँचे। इस दौरान सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ाई गई। दरअसल जबलपुर में स्थित चारों केंद्रीय सुरक्षा संस्थानों के जीएम ने मिलकर कलेक्टर से अनुमति मांगी थी कि फेक्ट्री के 20% कर्मचारियों को जरूरी काम हेतु जाने की अनुमति दी जाए। इसके लिए फेक्ट्री प्रबंधन ने सोशल डिस्टेंस सहित नियमों का पालन करने कलेक्टर(collector) को आश्वश्त भी किया था। पर आज जब इस आश्वासन कि हकीकत सामने आई तो नजारा कुछ और था। कर्मचारी सोशल डिस्टेंस की धाज्जिया उड़ाते हुए फैक्ट्री में जा रहे थे। हालांकि कर्मचारी नेताओ में फैक्ट्री प्रबंधन के इस निर्णय पर अपना विरोध जरूर जताया है पर फेक्ट्री प्रशासन के निर्देश पर आज हज़ारों कर्मचारी एक साथ फेक्ट्री के अंदर पहुँचे। कर्मचारी नेता अरुण दूबे(arun dubey) के मुताबिक रक्षा मंत्रालय के निर्देश पर धीरे-धीरे देश की सभी फैक्ट्रियों को खोला जा रहा है। इसी क्रम में आज आयुध निर्माणी फैक्ट्री खमरिया में भी कर्मचारियों को बुलाया गया। पर फैक्ट्री प्रबंधन ने इसको लेकर पहले से अपनी कोई भी तैयारी नहीं की। कर्मचारी सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं कर पा रहे थे और फैक्टरी के अंदर जाने के लिए कर्मचारियों की भीड़ लगी हुई थी। लिहाजा यह कहना गलत नहीं होगा कि जरा सी लापरवाही के चलते कोरोना वायरस संक्रमण पूरी फैक्ट्री में फैल सकता है।

कर्मचारी नेताओं ने सभी कर्मचारियों से अपील भी की थी कि भीड़ न लगाएं और घरों पर ही रहे पर अनुपस्थिति के डर से ज्यादा से ज्यादा कर्मचारी फैक्ट्री पहुँच गए।हालांकि आज जो कर्मचारी फैक्ट्री पहुँचे है वो स्टेट में रहने वाले है पर भीड़ ऐसी लग रही थी मानो सामान्य समय हो।इधर फैक्ट्री के जीएम रविकांत माहेश्वरी का कहना था कि कलेक्टर ने जो निर्देश और नियमो का पालन करने निर्देशित किया था उसको फॉलो किया गया है पर असल मे फैक्ट्री के बाहर क्या हालात थे वो कुछ और ही नज़ारा बया कर रहे थे। बहरहाल अब देखना ये होगा कि इस भीड़ को देखने के बाद जिला प्रशासन आगे क्या निर्णय लेता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here