जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा : आयु सीमा के चलते ढाई लाख उम्मीदवार परीक्षा से हो जाएंगे बाहर

IGNOU

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट 

तीन चार साल से जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा की तैयारी करने वाले करीब ढाई लाख उम्मीदवार बाहर हो जाएंगे। 3 साल बाद आई जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा में करीब ढाई लाख उम्मीदवार 33 साल निर्धारित आयु सीमा के हिसाब से ओवर एज हो गए हैं। उम्मीदवारी इसे 37 साल किए जाने की मांग कर रहे हैं।

पिछली सरकार ने मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने आयु सीमा 35 साल किए जाने की घोषणा तो कर दी थी लेकिन इस पर निर्णय नहीं हो पाया था। उम्मीदवार की मांग पर सरकार ने भर्ती परीक्षा के लिए आवेदन तो बुलवा लिया है, लेकिन आयु सीमा नहीं बढ़ाई है। जिसके कारण कई उम्मीदवार परीक्षा के लिए आवेदन नहीं भर पा रहें है। उम्मीदवार आयु सीमा 37 साल किए जाने की मांग कर रहें है। अगर सरकार उम्मीदवारों की मांग को मान कर आयु सीमा में छूट देती है तो परीक्षा में आवेदन देने वालो की संख्या 2 लाख से अधिक हो सकती है।

अब तक सिर्फ 22000 आवेदन

जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा के लिए 27 जुलाई से आवेदन भरे जा रहे हैं। अब तक सिर्फ 22000 आवेदन ही आए हैं। इससे पहले 798 पदों के लिए हुए जेल प्रहरी की भर्ती परीक्षा के लिए करीब डेढ़ लाख आवेदन आए थे। अगर भर्ती परीक्षा की आयु सीमा नहीं बढ़ती है तो आवेदन की संख्या इस बार एक लाख से भी कम रह जाएगी।

2 साल से नहीं हुई एक भी भर्ती परीक्षा

वर्ष 2018 से कुछ भर्ती परीक्षा हुई थी इसके बाद 2019 में स्कूली शिक्षकों की भर्ती को छोड़कर अन्य कोई भी परीक्षा नहीं हो पाई थी। वर्ष 2020 में तो अभी तक एक भी परीक्षा नहीं हो पाई है। कोरोना संक्रमण की वजह से परीक्षाएं टालती जा रही है। इस बीच पीईबी को बंद किए जाने की बात भी चल रही थी। इसके अन्य विभाग पीईबी से परीक्षा कराए जाने के लिए तैयार नहीं हुए थे।