कन्हैया कुमार थामेंगे कांग्रेस का हाथ, पार्टी मुख्यालय के बाहर लगे पोस्टर बैनर

कांग्रेस मुख्यालय के बाहर कन्हैया समर्थकों ने उनके स्वागत में पोस्टर बैनर लगाए हैं। 

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट।  JNU छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष एवं सीपीआई नेता कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) आज मंगलवार को कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। सूचना है कि उनके साथ निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी (Jignesh Mevani) भी कांग्रेस का हाथ थामेंगे। कन्हैया के कांग्रेस में शामिल होने से पहले ही युवाओं में जोश है।  कांग्रेस मुख्यालय के बाहर कन्हैया समर्थकों ने उनके स्वागत में पोस्टर बैनर लगाए हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) और जितिन प्रसाद (Jitin Prasad) जैसे  बड़े युवा चेहरों के कांग्रेस छोड़ने के बाद चुनावों में लगातार हार का मुंह देखने वाली कांग्रेस (Congress) अब ऐसे युवा चेहरों को अपनी पार्टी में लाने की कोशिश कर रही है जिनका देश के यूथ पर खासा प्रभाव हो और इसमें उसे सबसे बड़ा चेहरा कन्हैया कुमार का दिखाई दिया है।

ये भी पढ़ें – Gold Silver Rate : महंगी हुई चांदी, नहीं बदली सोने की कीमत, ये है ताजा भाव

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar)की पिछले दिनों हुई मुलाकात के बाद स्पष्ट हो गया था कि JNU छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार कांग्रेस ज्वाइन कर सकते हैं।  अब तक तय कार्यक्रम के मुताबिक आज मंगलवार को कन्हैया कुमार दिल्ली आईटीओ स्थित शाद भगत सिंह की प्रतिम पर माल्यार्पण करेंगे फिर कांग्रेस मुख्यालय पर पहुंचकर दिन में 3 बजे कांग्रेस  की सदस्यता ग्रहण करेंगे उनके साथ निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी भी कांग्रेस का हाथ थामेंगे।

ये भी पढ़ें – आगामी चुनावों से पहले बड़ा झटका- कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, पूर्व सीएम ने भी छोड़ी पार्टी

गौरतलब है कि जवाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय (JNU) में कथित देश विरोधी नारों “भारत तेरे टुकड़े होंगे” के बाद चर्चा में आये कन्हैया कुमार की पहचान तेज तर्रार नेता के रूप में बन गई। वे इस मामले में जेल भी जा चुके हैं। कन्हैया कुमार लगातार पीएम मोदी के खिलाफ बयानबाजी करते हैं। युवाओं में कन्हैया कुमार का अच्छा क्रेज हैं। बेगूसराय के रहने वाले कन्हैया कुमार ने 2019 में सीपीआई एमएल के प्रत्याशी के रूप में लोकसभा चुनाव लड़ा था लेकिन भाजपा के कद्दावर नेता गिरिराज सिंह से हार गए थे। इसी तरह निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी भी एक बड़ा युवा चेहरा है और कांग्रेस अब इसे ही भुनाना चाहती हैं।

 ये भी पढ़ें – मप्र उपचुनाव की तारीखों का ऐलान, 30 अक्टूबर को मतदान, कांग्रेस का बड़ा दावा