कीमत से अधिक rate वसूल रहे शराब ठेकेदार, दाम के सवाल पर गुर्गे देते है धमकी

मंदसौर।तरुण राठौर

जिले में नए ठेकेदार द्वारा संचालित किए जा रहे शराब के ठेकों पर महज सप्ताह भर में ही प्रिंट रेट से बढ़कर शराब बिक्री करते हुए अवैध वसूली पर उतारू हो गए है। मजे की बात ये है कि आबकारी विभाग के अधिकारी भी कोई कार्यवाही नहीं कर रहे है। जबकि जिले में तय कीमत में शराब की बिक्री करने की जगह ठेकेदार के गुर्गे अपनी मनमानी कीमत पर शराब बेच रहे है। यही वजह है कि जिले के भी ठेकों पर शराब की कीमत अलग अलग है। जबकि जिले का ठेका एक ही व्यक्ति मनीष जाट विदिशावाले ने ले रखा है। उसके बाद भी जिले के हर एक ठेके पर रेट अलग क्यों। यह अपने आप में एक विषय है। जिससे साफ लग रहा है।कि ठेकेदार आपदा को अवसर में बदल रहा है।

यही नहीं जब कोई ग्राहक शराब के ठेके पर शराब के रेट को लेकर बात करता है तो उससे ठेकेदार के गुर्गे बदसलूकी करने लगते है। यही नहीं बिल मांगने पर बिल भी नही देते है। उल्टा उससे पुलिस में केस डलवाने की धमकी देते है। और मारपीट पर उतारू हो जाते है। जबकि आबकारी विभाग को पता है कि ठेकेदार प्रिंट रेट से चार गुना अधिक भाव में शराब बिक्रीय कर रहा है। जो नियम के विरुद्ध है। पर उसके बाद भी विभाग के कान में जु तक नही रेग रही है। हालांकि नियम है कि यदि कोई ठेकेदार तय कीमत से अधिक पर माल बेच रहा है तो उस ठेकेदार के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत आबकारी विभाग कार्यवाही कर सकता है। पर यहां तो खुद आबकारी विभाग ठेकेदार के हाथ की कठपुतली बना दिख रहा है। इसी लिए ठेकेदार नियम को ताक पर रखके मनमानी कीमत में शराब बैच रहा है।

वही आबकारी व पुलिस विभाग ठेकेदार के गुर्गे द्वारा की जा रही दादागिरी की ओर भी ध्यान नहीं दे रहे है। जबकि ठेकेदार के सभी गुर्गे बाहर से आए हुए है। उनकी जानकारी भी पुलिस विभाग के पास नही है। जबकि जिले में ठेकेदार के गुर्गे बड़ी तादाब में होटल में ठेरे हुए है वे रोजाना चैकिंग के नाम पर लोगो को परेशासन करते है। पुरुष तो पुरुष महिलाओं के साथ भी बदतमीजी की जाती है। आबकारी विभाग की पुलिस खाली खड़े होकर तमसा देखती है गुरुवार को एक ऐसा ही मामला सामने आया जिसमें ठेकेदार के गुर्गों ने जनकुपुरा में किसी महिला के घर में घुसकर बदसलूकी की।