फिल्मी स्टाइल में लूटना पड़ा महंगा,पहुच गये जेल

धार।राजेश डाबी ।

गत 29 जनवरी को कुक्षी स्थित गोल्डन टीवीएस वाहन शोरूम के मालिक अमित पिता सुरेश चंद गुप्ता ने कुक्षी थाने में दर्ज कराई रिपोर्ट के आधार पर एक मोबाइल नंबर से कुछ दिनों से अज्ञात व्यक्ति द्वारा धमकी भरे फोन लगाकर। 10 लाख रुपए फिरौती मांगे जाने व नहीं देने पर पिता पुत्र को दुकान पर ही आकर जान से मारने की धमकी दिए जाने की FIR दर्ज करवाई , जिसके बाद पुलिस हरकत में आ गई व उक्त मोबाइल से तीन चार बार धमकी भरे फोन आने की सुचना व परिवार के भयभीत होने के गम्भीर मामले के चलते कुक्षी पुलिस ने कार्रवाई शुरू करते हुए आरोपियों की धर पकड़ की योजना पर काम करते हुए बताये नम्बर पर निगाह रखना शुरू की , इस दौरान पुलिस ने अपराधियों की मोबाइल लोकेशन के आधार पर शिकंजा कसना शुरू किया जो बार-बार इंदौर सहित अनेक जगह से कॉल कर रहे थे।

वही आरोपीयो का कॉल करने के बाद मोबाइल बंद हो रहा था , पुलिस ने विशेष तकनीक के द्वारा आरोपियों की पहचान कर आरोपियों को ट्रेस किया व सही समय पर आरोपियों द्वारा कुक्षी में मांगी गई फिरौती के रूपये लेने आने के दौरान जाल बिछाया व 3 लाख रूपये झोले में रखकर व्यापारी को बताए स्थान पर खड़ा किया गया , जहां सादे कपड़ों में पुलिस टीम भी लग गई थी , पुलिस के अनुसार एक आसमानी नीले रंग की सेंट्रो कार एवं हारनेट कंपनी की मोटरसाइकिल पर बैठे दो बदमाशों ने जैसे ही थैला लेकर कार के अंदर रख कर जाने का प्रयास किया वैसे ही टीम द्वारा फुर्ती से घेराबंदी कर बदमाशों को दबोच लिया गया ।

पकड़ाए आरोपियों में जैनुल हसन पिता महफूज खान मुसलमान 26 वर्ष नीम चौक जावरा थाना तथा रूबेन अरमान पिता स्वर्गीय मसूद खान उम्र 26 साल निवासी मुगलपुरा मोहल्ला जावरा का होना बताया जा रहा है , पकड़ाए बदमाशों से दो देशी पिस्तौल 2 बारा बोर देशी कट्टे , जिंदा कारतूस 6 मोबाइल एवं एक बैग में नगदी 3 लाख सहित कुल 8 लाख रूपये 1 कार 1 बाइक भी जप्त किए हैं , पुलिस के अनुसार बदमाशों ने डही नगर में रहने वाली बहन के पति लक्की को साथ लेकर क्षेत्र की भौगोलिक परिस्थितियों के आधार पर पूरे घटना को अंजाम दिया , घटनाक्रम में लक्की की भी अहम भूमिका है जो फिलहाल गिरफ्तार नही हुआ बताया जा रहा है , घटना में आरोपियों द्वारा फरियादी से पूर्व में भी उनके पुत्र को पिस्तौल अड़ा कर डरा धमका कर 3 माह पहले 10 लाख रुपए। कुक्षी बस स्टैंड पर वसूल लिए थे , उन रुपयों को दोनों आरोपियों ने आधे आधे बांट लिए थे। इन रुपयो में से सिद्धार्थ उर्फ भूरा नामक इंदौर के व्यक्ति को भी 50 हजार दिए थे , उक्त घटना की फरियादी ने बदमाशों के खोफ के चलते उस समय रिपोर्ट भी दर्ज नहीं की थी , पूरे मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने आगे की कार्रवाई की बात कही है , वही घटना का पर्दाफाश करने वाले पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों को इनाम देने की भी घोषणा की गई ।