सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार

सिंगरौली जिला अधिकारियो और कर्मचारियों का चारागाह बन गया है चाहे वह कोई ही विभाग क्यो नही है और चारागाह बने भी क्यो न जब जनता ने जिसे अपना जनप्रतिनिधि चुना ताकि सिंगरौली जिले का विकास हो सके लेकिन जनता का विकास कोसो दूर तक नजर नही आता लेकिन जिन्हें चुना उनका विकास दिन दुगुना रात चौगुना हो रहा है यही कारण है कि अब सिंगरौली को कुछ विभाग के अधिकारी कर्मचारी चारागाह बना रखे है क्योंकि वो भी जानते हैं कि सिंगरौली का हाल अंधेर नगर चौपट राजा वाला है

हम बात कर रहे हैं सिंगरौली जिले के यातायात पुलिस की जो रोजाना आये दिन अपने माजन मोड़ कार्यालय के बाहर बैठकर आम जनता दो पहिया चालक व छोटे गाड़ी वालो को परेशान करने और उगाही करने का कोई मौका नही छोड़ते अभी हाल ही में माजन मोड़ पर यातायात पुलिस के द्वारा उगाही करने का वीडियो वायरल हुआ है

ये जानकर आप भी हैरान हो जायेंगे की कहने को तो माजन मोड़ चौराहे पर प्रशासन की तीसरी आंख भी लगी हुई है लेकिन वो तीसरी आंख खुली है या बंद ये कोई नही जानता क्योकि जिस तरफ खुले आम यातायात पुलिस के कर्मचारी आम जनता से उगाही कर रहे है उसे देखकर तो लगता है कि माजन मोड़ चौराहे का तीसरा आँख बंद पड़ा है तभी तो बिना किसी डर भय के माजन मोड़ पर वसूली चल रही है या ये कहे कि माजन मोड़ की तीसरी आंख सिर्फ शो पीस बनकर रह गया है,हाल ही में माजन मोड़ चौराहे का कई वीडियो वायरल हो रहा है जिसमे यातायात पुलिस के कर्मचारी लोग दो पहिया चालको से पैसे ले रहे हैं वीडियो वायरल होने के बाद हर किसी के जुबान पर सिर्फ एक ही सवाल है आखिर कब तक आम जनता और दबे हुए लोगो को दबाया जायेगा

वही लोग तो अब ये भी कहने लगे है कि कोरोना काल मे आम जनता को घर चलना भी मुश्किल हो गया है किसी तरफ घर चलाने के लिए 300 रुपये की नौकरी करने घर से निकलते है लेकिन वही यातायात पुलिस जिसे सरकार ने सरकारी नौकरी के अलावा हर व्यवस्था और महीने में सैलरी भी दे रही है फिर भी सरकार की दिए हुए सैलरी से लगता है कि यातायात पुलिस की भूख नही मिटती इसलिए यातायात पुलिस अपने वर्दी और पद का धौस दिखाकर 300 रुपये को नौकरी कर अपना घर चलाने वाले गरीबो से उगाही करने में पीछे नही हटते

हमारे द्वारा लगातार यातायात पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाया जा रहा था कि आखिर कब तक कार्यालय के बाहर सिर्फ दो पहिया और छोटे वाहन चालकों को चेकिंग के नाम पर परेशान किया जाता रहेगा जबकि सिंगरौली जिले में एस्सार पॉवर प्लांट में कोयले का परिवहन करने वाले ट्रेलरों का आज तक यातायात पुलिस के द्वारा जांच या कार्यवाही नही की जाती न जाने क्यों ट्रेलर हाइवा की चेकिंग करने में यातायात पुलिस के हाथ पांव फूलने लगते है जबकि अगर एस्सार पॉवर प्लांट में जाने वाले ट्रेलर हाइवा और ट्रक की अच्छे से जांच हो जाये तो कई कमियां खुलकर सामने आएंगी लेकिन ट्रेलर,हाइवा और ट्रक मालिको से यातायात पुलिस का लगाव है कि वो इन बड़ी गाड़ियों की चेकिंग कभी करना मुनासिब नही समझा