तीर्थयात्रियों की जान के साथ खिलवाड़, ठेकेदार की लापरवाही पड सकती हैं भारी

ओंकारेश्वर के वार्ड 11 में चल रहे नाली निर्माण कार्य में निकले बडे बडे पत्थरों का ढेर ठेकेदार द्वारा लापरवाही पूर्वक ओंकारेश्वर मंदिर जाने वाले मुख्य मार्ग के उपर लगवा दिया हैं। मौत बनकर लगे ढेर में से धीरे-धीरे बडे बडे पत्थर खिसक कर मुख्य मांर्ग पर गिर रहे है।

खंडवा, सुशील विधानी। जिम्मेदारों की उदासीनता के कारण निर्माण कार्य समय पर पूरे नहीं हो रहे हैं। संबंधित लोगों को निर्माण कार्य पूरे नहीं होने के कारण सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। कई निर्माण कार्य तो ऐसे हैं, जिनमें ठेकेदार पूरी तरह से विभाग की गाइड लाइन की अनदेखी कर काम कर रहे हैं, लेकिन उन पर कार्रवाई नहीं हो रही है।

ओंकारेश्वर के वार्ड 11 में चल रहे नाली निर्माण कार्य में निकले बडे बडे पत्थरों का ढेर ठेकेदार द्वारा लापरवाही पूर्वक ओंकारेश्वर मंदिर जाने वाले मुख्य मार्ग के उपर लगवा दिया हैं। मौत बनकर लगे ढेर में से धीरे-धीरे बडे बडे पत्थर खिसक कर मुख्य मांर्ग पर गिर रहे है। इस मार्ग पर रविवार को श्रद्धालुओं का आवागमन भी काफी रहा परन्तु ईश्वरीय कृपा ही माने की पत्थरों की बारीश की चपेट में आने से बच गये।

बडे पत्थरों के ढेर में से धिरे-धिरे खिसक कर मुख्य मार्ग पर गिर रहे पहाड़ी पर अटके पत्थर

ओंकारेश्वर के वार्ड 11 मे ठेकेदार की लापरवाही से तीर्थयात्रीयों सहित आवागमन करने वाले लोगों की धुकधुकी बढ़ी।ओंकारेश्वर मंदिर पंहुचने वाले मुख्य मार्ग के उपर पहाड़ी पर अटके भारी-भरकम पत्थरों से लगा ढेर मार्ग से आवागमन करने वाले लोगों पर कभी भी कहर बनकर गिर सकता है।

बता दें कि ठेकेदार की लापरवाही से ओंकारेश्वर के वार्ड 11 में चल रहे निर्माण कार्य से खुदाई में निकले बडे बडे भारी-भरकम पत्थरों को दुर व्यवस्थित ना फेंकते हुए वही मार्ग के किनारे छोड़ दिया गया हैं, जो कि आजकल ज्यादा बंदरों की ऊछल कुद एवं बरसात होने के साथ-साथ नीचे मुख्य मार्ग की तरफ खिसक रहैं है,अगर समय रहते इन पत्थरों के ढेर को यहां से नही हटवाया गया तो कभी भी गंभीर हादसा होने की संभावना से इंकार नही किया जा सकता हैं।
प्रशासन को चाहिए की गंभीर लापरवाही बरतने वाले ठेकेदार को नोटिस जारी कर योग्य कार्यवाई करें।