मंत्री का फिर दिखा अलग अंदाज, लोगों की समस्याएं जानने स्कूटर से निकल पड़े

तोमर अपनी जानी-मानी शैली के अनुसार ग्वालियर में आम जनों से मिलने और उनकी समस्याएं जानने के लिए स्कूटर चला कर स्वयं ही निकल पड़े। क्षेत्र में उन्हें जहां भी लोग उन्हें मिले उनसे चर्चा की।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना| सफाई मुहीम को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाले प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (pradhuman singh tomar) इस बार नए अंदाज में दिखे| ग्वालियर (Gwalior) में लोगों से मिलने और उनकी समस्याएं जानने के लिए मंत्रीजी स्कूटर (Scooter) चला कर स्वयं ही निकल पड़े| मंत्री जी पहले भी अपने इसी अंदाज से लोगों को चौंकाते रहे हैं| जहां भी वे गंदगी देखते हैं खुद सफाई में जुट जाते हैं, कई बार वे गंदगी साफ करने नाली में कूद पड़े| स्कूटर चलाकर जनता के बीच पहुंचकर एक बार फिर मंत्री चर्चा में है|

दरअसल, रविवार को ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर अपनी जानी-मानी शैली के अनुसार ग्वालियर में आम जनों से मिलने और उनकी समस्याएं जानने के लिए स्कूटर चला कर स्वयं ही निकल पड़े। क्षेत्र में उन्हें जहां भी लोग उन्हें मिले उनसे चर्चा की। लोगों ने विभिन्न समस्याओं के बारे में मंत्री को बताया। मंत्री तोमर ने तत्काल संबंधित अधिकारियों से बात कर समस्याओं का निराकरण करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही समस्याओं का निराकरण शीघ्र कराने का आश्वासन लोगों को दिया।

जनता दरबार लगा सुनीं आमजनों की समस्यायें
रविवार को मंत्री तोमर ने जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी| इसमें विद्युत, जल, सफाई, खाद्य, पुलिस आदि के हितग्राहियों की समस्याओं का निराकरण किया गया। समस्या निवारण शिविर में सबसे ज्यादा विद्युत की समस्यायें आई। मंत्री श्री तोमर ने मौके पर ही समस्याओं का निराकरण कर हितग्राहियों को संतुष्ट कर घर भेजा और अधिकारियों को भी निर्देशित किया कि समस्या छोटी हो या बड़ी पहले हितग्राही की समस्या सुनो फिर उसका निराकरण करो।

अचानक पहुँच गए थे सब स्टेशन
इससे पहले मंत्री तोमर इंदौर से ग्वालियर लौटते समय ऊर्जा विभाग की पॉवर ट्रांसमिशन कंपनी के 220 केवी एवं 132 केवी उपकेंद्र मक्सी, शाजापुर एवं आगरोद अचानक पहुँच गए थे| मंत्री के इस तरह अचानक पहुंचने से पहले तो कर्मचारी सकते में आ गए, लेकिन मंत्री के बात करने के बाद नॉर्मल हो गए, इस दौरान कर्मचारियों की वेतन सम्बन्धी समस्याओं को मंत्री ने सुना| उर्जा मंत्री शुक्रवार को विवाह समारोह में शामिल होने के लिए इंदौर गए थे। वहां भी वह अचानक शाम को बिजली कंपनी के दफ्तर पहुंच गए थे। मंत्री ने वहां अधिकारियों की बैठक ली थी और बिजली व्यवस्था को लेकर निर्देश दिए थे।