MP उपचुनाव 2020: विश्वास सारंग का बड़ा दावा- परिणाम वाले दिन प्रदेश में नहीं रहेंगे कमलनाथ

सारंग(sarang) ने कांग्रेस पर बड़ा इल्जाम लगाते हुए कहा है कि कमलनाथ(kamalnath) के ऑफिस के कर्मचारी से अगर पूछा जाए तो पता चलेगा कि चुनाव परिणाम वाले दिन कमलनाथ दिल्ली(delhi) के लिए रवाना हो जाएंगे।

विश्वास सारंग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। “कमलनाथ(kamalnath) ने अपने कार्यकाल में विकास में कोई कमी नहीं आने दी है। कमलनाथ ने विकास तो किया है लेकिन सिर्फ अपने गुर्गों का, प्रदेश का नहीं”  यह कहना है शिवराज सरकार के मंत्री विश्वास सारंग(Vishwas sarang) का। मध्य प्रदेश(madhya pradesh) में आगामी 28 सीटों पर उपचुनाव(by election) को लेकर एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। एक तरफ जहां विपक्षी पार्टी सत्ताधारी पार्टियों पर उनके वचन पत्र का जवाब मांग रही है। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी(bjp) लगातार कांग्रेस(congress) को उनके 15 महीने के शासनकाल पर घेरती नजर आ रही है। इसी बीच विश्वास सारंग ने कमलनाथ पर बड़ा हमला किया है।

सारंग ने कहा है कमलनाथ के 15 महीने के दौरान ने प्रदेश में 1 इंच नई सड़कों का निर्माण हुआ ना ही अतिरिक्त बिजली उत्पादन। वही शिवराज सरकार में शुरू हुई जन हितैषी योजनाओं को उन्होंने बंद कर दिया। विश्वास सारंग(vishwas sarang) ने कहा है कमलनाथ(kamalnath) को मध्य प्रदेश के वासियों से कोई मतलब नहीं है।

सारंग(sarang) ने कांग्रेस पर बड़ा इल्जाम लगाते हुए कहा है कि कमलनाथ(kamalnath) के ऑफिस के कर्मचारी से अगर पूछा जाए तो पता चलेगा कि चुनाव परिणाम वाले दिन कमलनाथ दिल्ली(delhi) के लिए रवाना हो जाएंगे। यह निश्चित है कि 11 नवंबर को वह प्रदेश में नहीं रहेंगे।

वहीं दूसरी तरफ विश्वास सारंग ने कृषि सुधार विधेयक(Farm bill) पर बोलते हुए कहा हैं कि कमलनाथ मध्यप्रदेश में इसे लागू नहीं होने देंगे। कमलनाथ(kamalnath) को स्पष्ट करना चाहिए कि जब वह केंद्रीय मंत्री थे। उन्होंने कांटेक्ट फॉर्म की वकालत की थी या नहीं। कमलनाथ केंद्रीय मंत्री रहते हुए कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग(Contract farming) की वकालत करते रहे हैं और अब नई कृषि कानून में इसका प्रावधान है तो इसका विरोध कर रहे हैं।

वहीं उन्होंने कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा है कि कृषि सुधार कानून का विरोध वह दो मुख्य लोग कर रहे हैं जो ड्राफ्ट बनाने वाली मुख्य मंत्रियों की समिति में सदस्य थे लेकिन तब उन्होंने इस कानून का विरोध नहीं किया था और कांग्रेस के खाने के दांत कुछ और हैं और दिखाने के दांत कुछ और।

आगे बोलते हुए सारंग ने कहा की कमलनाथ सरकार का रिमोट थामने वाले दिग्विजय आज कहां है। यह पता करना मुश्किल है। वहीं उन्होंने राजनीतिक चुनावी रैली में इंपोर्टेड स्टार प्रचारक की बात करते हुए कांग्रेस के अध्यक्ष पर भी निशाना साधा है।

प्रदेश में 15 महीने सत्ता में रहने वाले कमलनाथ सरकार पर इल्जाम लगाते हुए सारंग ने कहा कि 15 महीने सत्ता में रहने वाली सरकार ने कोरोना महामारी के दौरान प्रदेश को संकट में झोंककर आईफा की तैयारी में लगे रहे। वह हीरोइनों के साथ फोटो में नजर आते रहे पर कोरोना से बचाव की चिंता नहीं करते दिखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here