भोपाल।

मध्य प्रदेश में कोरोना (corona) की स्थिति बेकाबू हो रही है। राजधानी (bhopal) में हर दिन 100 से अधिक मामले जिले में सामने आ रहे हैं। इसी बीच बुधवार को रिकॉर्ड 246 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद गुरुवार की सुबह 218 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।वहीँ गुरुवार से राजधानी में रैपिड एंटीजन टेस्ट (rapid antigen test) की शुरुआत की जा रही है। जिससे लोगों की जांच में तेजी आएगी और जांच रिपोर्ट भी आधे घंटे में उपलब्ध हो जाएगी।

दरअसल संक्रमण के नए मामले के बीच गुरूवार से राजधानी में रैपिड एंटीजन टेस्ट की शुरुआत हो रही है। जिसके कारण अब टेस्ट रिपोर्ट में मरीजों को ज्यादा लंबे समय तक इंतजार नहीं करना होगा। अभी तक माना जा रहा था कि कोरोना के जांच के लिए रियल टाइम पीसीआर सर्वश्रेष्ठ एवं प्रमाणिक जांच हैं। किंतु उसके लिए बड़ी प्रयोगशाला की आवश्यकता होती है। जबकि रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए ज्यादा भारी उपकरणों की जरूरत नहीं है। इससे जांच रिपोर्ट भी ज्यादा तेजी से उपलब्ध हो रहे हैं। इस जांच में 30 मिनट में रिपोर्ट मिल जाएगी। अगर इस टेस्ट किट के जांच में कोई भी पॉजिटिव आता है तो उसे कंफर्म पॉजिटिव माना जाएगा। वहीं अगर लक्षण होने के बाद ही इस टेस्ट किट में किसी की रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो आरटीपीसीआर से दोबारा उस मरीज की पुष्टि की जाएगी। रैपिड एंटीजन टेस्ट से कोविड -19 के संदिग्ध मरीज, बिना लक्षण वाले मरीज, कीमोथैरेपी, एचआईवी मरीज, कैंसर, ट्रांसप्लांट के मरीज की जांच संभव है।

इन शर्तों का करना होगा पालन 

  • रैपिड एंटीजन टेस्ट से जांच करने के लिए आईसीएमआर से पंजीकृत होकर लॉगिन क्रेडेंशियल प्राप्त करना होगा।
  • इस टेस्ट किट से अगर रिपोर्ट नेगेटिव आती है तो सभी लक्षण वाले मरीजों की दोबारा जांच की जाएगी।

बता दें कि भोपाल में आए दिन बड़ी संख्या में मरीजों के मामले सामने आ रहे हैं। गुरुवार की सुबह भोपाल में एक बार फिर 218 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसके बाद भोपाल में संक्रमित मरीजों की संख्या 6000 के पार पहुंच गई है। रिकवरी रेट 79.3 से घटकर 56.53 पर आ गया है। संक्रमण लगातार नए इलाके को अपने निशाने पर ले रहे हैं। इस बीच प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना को हराने के लिए प्रभावी रणनीति बनाने की जरूरत है। उन्होंने साफ कहा है कि प्रदेश में लॉकडाउन किए बगैर कोरोना पर नियंत्रण किया जाए। ऐसी रणनीति तैयार की जाएगी। प्रदेश में जनता की स्वास्थ्य रक्षा के लिए हम हरसंभव कदम उठाएंगे। इसी के साथ रैपिड एंटीजन टेस्ट के जरिए भोपाल में ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच की जाएगी।