पंजीयन

शिवपुरी, शिवम् पांडेय। सहकारिता कर्मचारियों की हड़ताल का असर रबी की फसलों के पंजीयन में साफ तौर पर देखने को मिल रहा है। पिछले वर्ष के मुकाबले अभी सिर्फ 42 प्रतिशत पंजीयन ही हुए हैं। जबकि 20 फरवरी को पंजीयन की अंतिम तिथि है। हालांकि किसानों को उम्मीद है कि पंजीयन की तारीख बढ़ाई जाएगी। 4 फरवरी से सहाकारिता कर्मचारी हड़ताल पर हैं जिसके कारण किसानों की रबी फसल का पंजीयन नहीं हो पा रहा है।

हालांकि कलेक्टर ने यह काम स्वसहायता समूहों को दे दिया है। इसके बाद भी पिछले वर्ष के मुकाबले पंजीयनों की संख्या आधी भी नहीं है। पिछले साल रबी की फसल के 63845 पंजीयन हुए थे। जबकि इस बार 27056 हुए हैं। यह पिछले वर्ष के मुकाबले 42 प्रतिशत ही है। किसान जनसुनवाई में और तहसीन कार्यालयों पर ज्ञापन देते हुए घूम रहे हैं। मंगलवार को जनसुनवाई में भी किसान आवेदन लेकर आए थे। इसके पहले करैरा के किसानों ने भी वहां पर आवेदन दिया था।

एप में हो रहा सर्वर डाउन, बढ़ सकती है तारीख

किसानों की समस्या को देखते हुए सरकार ने मोबाइल एप से भी पंजीयन कराने की सुविधा दी है।हालांकी, इसमें सर्वर डाउन होने की परेशानी आ रही है। वहीं दूसरी ओर गांव के छोटे किसानों के पास न तो एंड्रॉइड मोबाइल फोन है और न ही उन्हें इसे ऑपरेट करना आता है। हालांकि हड़ताल की परिस्थितियों को देखते हुए पंजीयन की तारीख बढ़ना तय माना जा रहा है। पिछले सालों में भी पंजीयन की तारीख बढ़ती रही हैं।