MP Politics: माणक अग्रवाल के निष्कासन के बाद समर्थन में उतरी BJP, कई समर्थक दे सकते है इस्तीफा

माणक अग्रवाल

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। निकाय चुनावों से पहले (Urban Body Election 2021) मप्र कांग्रेस कमेटी (MP Congress) द्वारा वरिष्ठ कांग्रेस नेता माणक अग्रवाल (Manak Aggarwal) को प्राथमिक सदस्यता के साथ पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित करने के बाद सियासी गलियारों में हड़कंप मच गया है। एक तरफ समर्थकों में भारी आक्रोश व्याप्त हो गया है वही दूसरी तरफ बीजेपी माणक अग्रवाल के समर्थन में उतर आई है। बीजेपी ने तो यहां तक सवाल कर दिया है कि क्या अब अरुण यादव की बारी है..?

यह भी पढ़े.. निकाय चुनाव से पहले MP कांग्रेस का बड़ा एक्शन- वरिष्ठ नेता पार्टी से निष्कासित, मचा हड़कंप

दरअसल,बीते दिनों ग्वालियर में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) ने नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) के भक्त बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasia) को कांग्रेस में शामिल किया था, जिसके माणक अग्रवाल का बड़ा बयान सामने आया था और उन्होंने (Congress Leader Manak Aggarwal) कहा था कि कमलनाथ यदि गोडसे की विचारधारा के साथ हैं तो उन्हें भी चौरसिया के साथ चले जाना चाहिए।

माणक के इस बयान के बाद कांग्रेस के अन्य नेताओं ने भी बगावती सुर इख्तियार कर लिए थे और गुटबाजी के सुर तेजी से फूटने लगे है। इसके बाद आज सोमवार को हुई प्रदेश कांग्रेस की अनुशासन समिति की बैठक में 6 वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया  यह कार्रवाई मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर द्वारा की गई है।यह निर्णय तत्काल प्रभाव से लागू होगा।

यह भी पढ़े.. जबलपुर में गरजे राकेश टिकैत- MP का किसान भी दिखाएगा आक्रोश, जारी रहेगा आंदोलन

इस कार्रवाई के बाद माणक समर्थकों में भारी आक्रोश और गुस्सा देखने मिल रहा है।समर्थकों का कहना है कि माणक अग्रवाल AICC के सदस्य है, इसलिए PCC के पास उन्हें निष्कासित (Expelled) करने का कोई अधिकार नहीं है। यह फैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के पास है।वही अटकलें तेज हो गई है कि निकाय चुनाव से पहले 100 से ज्यादा काँग्रेस कार्यकर्ता इस्तीफा दे सकते है, जिसका फायदा बीजेपी को आगामी चुनावों में मिल सकता है।

माणक के समर्थन में उतरी बीजेपी, नेताओं ने ट्वीट कर कांग्रेस को घेरा

मध्य प्रदेश के बीजेपी के मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर (Lokendra Parashar) ने ट्वीट कर लिखा है कि कमलनाथ जी गजब शख्सियत हैं। जब मुख्यमंत्री थे तब सरकार, दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) चलाते थे । आज प्रदेश अध्यक्ष हैं तो संगठन मिगलानी चला रहे हैं । परिणाम माणक अग्रवाल जैसे वरिष्ठ नेता धक्के खा रहे हैं।

वही पूर्व मंत्री और प्रदेश उपाध्यक्ष विजेन्द्र सिंह सिसोदिया (Vijendra Singh Sisodia) ने ट्वीट कर लिखा है कि मानक जी का निष्कासन कर कांग्रेस ने सिद्ध कर दिया कि वे गांधी जी  (Gandhi ji) के हत्यारों के साथ है। में ढूढ रहा हूं,उन चेहरो को जो गांधी के हत्यारों को कांग्रेस में शामिल करने का विरोध कर रहे थे।और आत्म दाह की धमकी दे रहे थे।

इसके अलावा बीजेपी नेता रजनीश अग्रवाल (Rajneesh Aggarwal)  ने कहा है कि @INCIndia के AICC सदस्य वरिष्ठ नेता मानक अग्रवाल जी को पार्टी से निष्कासन कांग्रेस पार्टी के भीतर अराजकता को उजागर करता है। मानक भाई के अनुसार उन्हें बाहर का करने का अधिकार इन्हें नहीं है फिर माजरा क्या है ? क्या अब अरुण यादव (Arun Yadav) जी की बारी है ? कांग्रेस के भीतर घमासान चालू आहे।

वही ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के कट्टर समर्थक माने जाने वाले पकंज चतुर्वेदी ने भी ट्वीट कर लिखा है कि मति मारी गई है कांग्रेस के जिम्मेदारों की। गोडसे के भक्त को #Congress में रखने के लिए #गांधीवादियों को पार्टी से बाहर किया जा रहा है । पुराने गांधीवादी माणक अग्रवाल जी को बाहर किया।