कांग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आखिरकार लंबे इंतजार के बाद मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मतदान (voting) की तिथि घोषित हो चुकी है। इससे पहले सोमवार को उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह (Election Symbol) आवंटित कर दिए गए थे। वहीं 20 में से आठ उम्मीदवारों (Candidate) ने अपने नाम वापस ले लिए थे। जिसके बाद अब चुनावी मैदान में कुल 12 प्रत्याशी बचे हैं। वहीं इनकी भाग्य का फैसला 10, 11 और 12 दिसंबर को होगा।

दरअसल मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस चुनाव (Madhya Pradesh Youth Congress Election) के मतदान की तिथि घोषित कर दी गई है। 10, 11 और 12 दिसंबर को अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मतदान किया जाएगा। मतदान की तिथि घोषित होने से पूर्व ही उम्मीदवारों ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। सोशल मीडिया (social media) पर प्रचार प्रसार के साथ उम्मीदवार मतदाताओं को अपने पक्ष में मतदान करने के लिए भी जनसंपर्क कर रहे हैं। बता दे कि मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए वोटिंग 3 दिन तक चलेगी। हालांकि अभी तक परिणाम घोषित करने की तिथि सामने नहीं आई है।

Read More: 8 दिसंबर को हो सकता है मंत्रिमंडल विस्तार, राज्यपाल 7 को आएंगी भोपाल

मध्य प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए 12 प्रत्याशी के बीच मुकाबला होगा। उम्मीदवारों में से कई बड़े नेता पुत्र भी युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मैदान में है। जिस में कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया का नाम भी शामिल है। इसके अलावा संजय सिंह यादव, प्रेमचंद गुड्डू के पुत्र अजीत बोरासी, पूर्व मंत्री नरेंद्र नाहटा के पुत्र सौमिल नाहटा, प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष लक्ष्मण ढोली के पुत्र अंकित ढोली सहित सिद्धार्थ कुशवाहा और नितेंद्र सिंह अध्यक्ष पद के लिए ताल ठोक रहे हैं। इसके अलावा प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष हर्षित गुरु और एनएसयूआई के प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी भी चुनावी मैदान में खड़े हैं।

वहीं दूसरी तरफ युवा कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए आगे से विधायक विपिन वानखेड़े, सतना विधायक सिद्धार्थ कुशवाहा और शाहपुरा विधायक भूपेंद्र सिंह मरावी भी चुनावी मैदान में खड़े है। इसके अलावा 3 युक्तियां उम्मीदवार पिंकी मुद्दल, मोना कौरव और एकता ठाकुर के नाम भी अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मैदान में शामिल है। युवा कांग्रेस के संगठन चुनाव में ऑनलाइन वोटिंग की जाएगी। जिसे प्रदेश के कुल 4 लाख मतदाता वोटिंग करेंगे। वही एक वोटर पांच लोग प्रदेशाध्यक्ष प्रदेश महासचिव जिला अध्यक्ष जिला महासचिव असेंबली कमेटी की रिपोर्ट कर सकेगा।