MPPEB: जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा पर मचा बवाल, कांग्रेस का आरोप- व्यापम की तर्ज पर हुआ घोटाला

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि व्यापम की तरह ही प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड में भी घोटाले हुए हैं और पेपर लीक होने के बाद जेल प्रहरी परीक्षा को निरस्त किया गया है। इसके साथ ही साथ कांग्रेस ने इस मामले में जांच की मांग की है।

जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में होने वाले जेल प्रहरी परीक्षा का निरस्त होना सवालों के घेरे में आ गया है। लगातार अब इस पर सवाल उठने लगे हैं। वहीं विपक्ष लगातार जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा निरस्त होने के पीछे के कारणों पर सवाल करता नजर आ रहा है। इसके साथ ही कांग्रेस (congress) ने इस मामले की जांच कराने की मांग की है।

दरअसल कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता (bhupendra gupta) ने सरकार से सवाल उठाए उनका कहना है कि प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड (Professional exam board) ने आखिर जेल प्रहरी परीक्षा क्यों निरस्त की। इसका कारण सार्वजनिक करना चाहिए। भूपेंद्र गुप्ता का कहना है कि सिर्फ तीन परीक्षा केंद्रों का स्थान बदलने से परीक्षा को निरस्त कर दिया गया। यह कारण तर्कसंगत नहीं है।

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश में जेल प्रहरी परीक्षा के ठीक 2 दिन पहले इस परीक्षा को निरस्त कर दिया गया था। परीक्षा निरस्त करने का कारण यह बताया गया था कि 3 परीक्षा केंद्र बदल दिया गया था। जिससे गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए परीक्षा को निरस्त किया गया है। वहीं अब इस मामले में कांग्रेस ने आरोप लगाया है। कांग्रेस का कहना है कि व्यापमं की तर्ज पर पीईबी में घोटाला हुआ है। जिसके बाद पेपर लिक की वजह से परीक्षा को निरस्त किया गया है।

Read More: जेल प्रहरी परीक्षा स्थगित, सोशल मीडिया पर फूट रहा युवाओं का गुस्सा, कांग्रेस भड़की

बीजेपी का पलटवार

कांग्रेस के आरोप के बाद बीजेपी प्रवक्ता राजेश अग्रवाल का कहना है कि अगर कांग्रेस के पास पेपर लीक होने के सबूत है तो उसे एफआईआर दर्ज करना चाहिए। कांग्रेस के पास भ्रम फैलाने के अलावा कोई और कार्य नहीं बचा है। इसलिए वह निराधार आरोप लगा रही है।

गौरतलब हो कि पीईबी (PEB) ने जुलाई में राज्य सरकार के जेल विभाग के लिए जेल प्रहरी पद पर 282 पदों के लिए वैकेंसी (vacancy)  निकाली थी। जिसके लिए तीन लाख से अधिक उम्मीदवारों ने आवेदन किया था। वहीं परीक्षा 20 नवंबर से 29 नवंबर के बीच होनी थी। जिसके लिए प्रदेश भर में कुल 70 सेंटर्स बनाए गए थे। वहीं परीक्षा से 2 दिन पूर्व मध्य प्रदेश प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने परीक्षा को स्थगित कर दिया।

अचानक से तीन बदले हुए सेंटरों को परीक्षा स्थगित करने का कारण बताया गया। इस बात से लगातार कांग्रेस इस मुद्दे पर सरकार से सवाल करती नजर आ रही है। वहीं कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि व्यापम की तरह ही प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड में भी घोटाले हुए हैं और पेपर लीक होने के बाद जेल प्रहरी परीक्षा को निरस्त किया गया है। इसके साथ ही साथ कांग्रेस ने इस मामले में जांच की मांग की है।