पुलिस दीक्षांत समारोह : नरोत्तम मिश्रा बोले- मनुष्य को जीवन भर विद्यार्थी रहना चाहिए

डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने 39, 40 और 41वीं बैच के उप पुलिस अधीक्षको संबोधित करते हुए कहा कि जीवन में हमेशा सीखते रहना चाहिए। अनुभव से बड़ा कोई गुरु नहीं है। शिक्षा और दीक्षा कभी खत्म नहीं होती हैं।

narottam Mishra

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर पर आज मध्य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Dr. Narottam Mishra) भौरीं स्थित पुलिस अकादमी(Police Academy में आयोजित पुलिस उप अधीक्षको के दीक्षांत समारोह (Convocation of Deputy Superintendent of Police) में पहुंचे। समारोह में आंतरिक एवं बाह्य परीक्षाओं में प्रथम एवं द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले अधिकारियों को गृह मंत्री ने पुरस्कृत कर सम्मानित किया गया।

डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने 39, 40 और 41वीं बैच के उप पुलिस अधीक्षको संबोधित करते हुए कहा कि जीवन में हमेशा सीखते रहना चाहिए। अनुभव से बड़ा कोई गुरु नहीं है। शिक्षा और दीक्षा कभी खत्म नहीं होती हैं। उन्होंने कहा कि मन जब विचलित होता है तो परिस्थितियां परेशानियों की तरह लगती है और जब मन स्थिर होता है तब परिस्थितियां हमें चुनौतियों की तरह दिखाई देती है और जब मन मजबूत होता है तब परिस्थितियों में से हम अवसर निकालते हैं उन्होंने कहा कि यही जवानों और पुलिस (Police) का काम है। गृह मंत्री ने कहा कि शिक्षा के बाद जो शुरू हो उसे दीक्षा कहा जाता है। उन्होंने कहा कि मनुष्य को जीवन भर विद्यार्थी रहना चाहिए। वहीं उन्होंने कहा कि आशा करता हूं की वर्तमान में आई हुई चुनौतियों का आप सफलतापूर्वक सामना करेंगे। उन्होंने सभी को बधाई और शुभकामनाएं दी।

महिला पुलिस अधीक्षकों ने किया बेहतर प्रदर्शन
128 उप पुलिस अधीक्षक में 56 महिला पुलिस अधिकारी है। तीनों बैच में ओवरऑल परफारमेंस के आधार पर 2 बैच की महिला अधिकारियों ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। 39 वीं बैच में रिचा जैन, 40 वीं बैच में यशस्वी शिंदे और 41 बैच में पराग सैनी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया ।