कोरोना वैक्सीनेशन के लिये नरोत्तम मिश्रा अनफिट, बोले- इसकी मन में बहुत पीड़ा है

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगर वैक्सीनेशन ट्रायल की प्रक्रिया सरल हो तो इस तरह की दुविधा नहीं उत्पन्न होगी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मेरी पत्नी को रोना संक्रमित हुई थी जिसकी वजह से मुझे वैक्सीनेशन नहीं लगाई गई।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देश सहित मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना वैक्सीन (corona vaccine) के ट्रायल (Trial) का कार्य तेजी से हो रहा है। इसी बीच बीते दिनों मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) ने बड़ी पेशकश की थी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा था कि डॉक्टर (doctors) से बात करके हो जल्द ही कोरोना वॉलिंटियर्स (Corona Volunteers) बनेंगे। जिसके बाद आज नरोत्तम मिश्रा पीपुल्स मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। जहाँ उन्हें वैक्सीन के ट्रायल के लिए अनफिट पाया गया है।

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने शुक्रवार को को-वैक्सीन के ट्रायल के लिए मेडिकल कॉलेज पहुंचे थे। जहाँ उन्होंने वैक्सीनेशन ट्रायल की इच्छा जताई थी। हालांकि अब डॉक्टरों ने उन्हें वैक्सीनेशन के लिए फिट नहीं पाया है। दरअसल डॉक्टर ने बताया कि डॉ मिश्रा के परिवार के सदस्यों को कोरोना हो चुका है। जिसके कारण उनके ऊपर यह ट्रायल नहीं किया जा सकता है। वहीं काउंसलिंग के दौरान तकनीकी पेंच के चलते उन्हें वैक्सीनेशन के लिए अनफिट कर दिया गया है।

Read More: केंद्रीय राज्यमंत्री का बेतुका बयान, कहा- अब कोई नहीं करता बसों में सफर, लोगों के पास बहुत पैसा

इस मामले में नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट करते हुए कहा कि कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में वालंटियर बनने की उनकी बहुत तीव्र इच्छा थी और इस माध्यम से और समाज के लिए कुछ करना चाहते थे। इसके साथ ही नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि आईसीएमआर (ICMR) के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया (Eligibility Criteria) में नरोत्तम मिश्रा अनफिट पाए गए हैं और इसकी मन से उन्हें बहुत पीड़ा है।

इसके साथ ही वैक्सीनेशन ट्रायल पर बोलते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा की वैक्सीनेशन ट्रायल के लिए एक लंबी प्रक्रिया काउंसलिंग की होती है। काउंसलिंग की प्रक्रिया से ही वॉलिंटियर आशंकाओं से घिर जाते हैं। फिर उन्हें टेलिफोनिक ऑब्जर्वेशन में रखा जाता है। जिससे बार-बार उन्हें डॉक्टर के संपर्क में रहने को कहा जाता है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि अगर वैक्सीनेशन ट्रायल की प्रक्रिया सरल हो तो इस तरह की दुविधा नहीं उत्पन्न होगी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मेरी पत्नी को रोना संक्रमित हुई थी जिसकी वजह से मुझे वैक्सीनेशन नहीं लगाई गई।