नौतपा: प्रदेश में चौथे दिन नरम रहा सूरज का मिजाज, 1 जून तक केरल में हो सकती है मानसून की एंट्री

162

भोपाल।

नौतपा में तीन दिन के भीषण गर्मी के बाद चौथे दिन राहत का एहसास हुआ। जब सबसे ज्यादा तपने वाले बुंदेलखंड(bundelkhand), विंध्य(vindhya), चंबल(chambal) के कई इलाकाें में बारिश हुई ।खजुराहो में दोपहर 3 बजे 45 डिग्री(degree) तापमान(temperature) के बीच अचानक 80 से 90 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलने लगीं और तेज बारिश शुरू हो गई। जिसके बाद राजधानी में पारा 0.3 डिग्री लुढ़ककर 43.5 डिग्री पर पहुंच गया। वहीँ मौसम विभाग ने प्रदेश में बारिश कि सम्भावना को लेकर यलो अलर्ट जारी किया है। वहीँ मौसम विभाग कि माने तो मानसून एक जून को केरल के तट से टकरा सकता है।

दरअसल प्रदेश में लगातार बढ़ते तापमान के बीच गुरुवार का मौसम थोड़ा आरामदायक रहा। प्रदेश के कुछ इलाकों में ठंडी हवाएं और बूंदाबादी के बाद तापमान 0.3 डिग्री लुढ़क गया। जिसके साथ ही विंध्य सहित चंबल के कई इलाकाें में बारिश हुई। माैसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि गुरुवार काे सिर्फ चार जिलाें नरसिंहपुर, दमाेह, खरगाेन और सीधी में लू चली। वहीँ मौसम विभाग के वैज्ञानिक नरेश कुमार ने गुरुवार को भविष्यवाणी की कि भारत के उत्तरी और मध्य भाग में शुक्रवार से गर्मी की तीव्रता कम हाेगी। ऐसा पश्चिमी विक्षोभ के कारण हिमालय क्षेत्र में बारिश और तेज हवाओं के असर से हाेगा। वरिष्ठ माैसम वैज्ञानिक एके शुक्ला का कहना है कि पंजाब से लेकर छत्तीसगढ़ तक ट्रफ लाइन बनी है। यह चंबल, सागर व ग्वालियर संभाग समेत उत्तरी मप्र से हाेकर गुजर रही है। यह नमी खींच रही है। इसी के कारण मप्र के कई इलाकाें में बारिश हुई। वहीं विभाग ने 29 मई से एक जून तक पूर्वी व पश्चिमी मप्र में कहीं-कहीं गरज चमक के साथ बारिश होने और ठंडी हवाएं चलने का यलो अलर्ट जारी किया है।

बता दे कि परिस्थितियों के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवाएं उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में वर्षा का कारण बनेंगी। बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती दबाव बनने से मानसून के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। दक्षिण-पूर्व और पूर्व-मध्य अरब सागर में 31 मई से 4 जून तक कम दबाव बनने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here