ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर में पिछले सात दिनों में दो ऐसी घटनाएं सामने आईं हैं जिसने बेजुबानों से प्यार करने वाले लोगों को अंदर तक झकझोर दिया है। इन घटनाओं में पड़ोसियों के हमले से दो पालतू डॉग (Dog) की मौत हो गई।  खास बात ये है कि पुलिस ने बेजुबानों की मौत को गंभीरता से नहीं लिया और मामला दर्ज करने से इंकार कर दिया बाद में पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पीपुल फॉर एनिमल्स (PFA) की संस्थापक मेनका गांधी (Maneka Gandhi) के फोन के बाद मामले दर्ज किये गए।

शहर में बेजुबानों पर हमले का सिलसिला जारी है। सात दिन के अंदर शहर में दो पालतू डॉग (Dog) पडोसियों के हमले में घायल होकर दमतोड़ चुके हैं। जानकारी के मुताबिक गोले का मंदिर थाना क्षेत्र की कुंज विहार कॉलोनी में रहने वाली नीता शर्मा के पालतू डॉग (Dog)के सिर पर उनकी पडोसी राजकुमारी कुशवाह ने डंडा मार दिया। घटना 24 फरवरी की है। घटना में नीता शर्मा का 3 महीने का मासूम पालतू डॉग (Dog) पैगी गंभीर रूप से घायल हो गया। पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई है। पशु चिकित्सक ने जब उसकी जाँच की तो उसके सिर में गंभीर चोट निकली जिसके बाद इलाज के दौरान डॉग (Dog)की मौत हो गई।  नीता शर्मा गोला का मंदिर थाने पहुंची लेकिन पुलिस ने शिकायत नहीं लिखी।  बाद में नीता शर्मा और उनके परिजनों ने पीपुल फॉर एनिमल्स (PFA) की संस्थापक पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी (Maneka Gandhi) से शिकायत की उसके बाद मेनका गांधी (Maneka Gandhi) ने ग्वालियर पुलिस से इस बात के लिए नाराजगी जताई।

सीएसपी रामनरेश पचौरी ने बताया कि नीता शर्मा का पालतू डॉग (Dog) राजकुमारी कुशवाह के घर के आसपास गंदगी कर जाता था जिससे गुस्से में राजकुमारी ने डॉग (Dog)के सिर पर डंडा मार दिया जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने राजकुमारी कुशवाह के खिलाफ पशु अत्याचार कानून की धारा 429 के तहत FIR दर्ज कर ली गई है। उस कानून की धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी।

पडोसी ने डॉग के सिर पर मारा डंडा, डॉग की मौत, मेनका गांधी के दखल पर हुई FIR

गौरतलब है कि तीन दिन पहले मुरार थाना क्षेत्र में भी एक ऐसी ही घटना हुई थी। रामकला नगर मुरार में रहने वाली छाया तोमर के पालतू डॉग (Dog)छोटू के भौंकने से पड़ोसी चुट्टू श्रीवास्तव परेशान थे। जब वे बाहर जा रहे थे तो डॉग (Dog) भौंकने लगा जिससे उन्हें गुस्सा आ गया और डंडे से डॉग (Dog) को बुरी तरह मारा जिससे उसकी मौत हो गई। छाया तोमर मुरार थाने पहुंची लेकिन पुलिस ने शिकायत नहीं लिखी। बाद में उन्होंने मेनका गांधी (Maneka Gandhi) से शिकायत की। जब मेनका गांधी (Maneka Gandhi) ने डॉग की मौत की बात सुनीं तो उन्होंने पुलिस को फटकार लगाई जिसके बाद मुरार पुलिस ने आरोपी के खिलाफ पशु अत्याचार कानून की धारा 429 के तहत मामला दर्ज कर लिया।

ये भी पढ़ें – Gwalior News: NHM के नए अस्पताल में ICU नहीं, क्षेत्रीय लोगों ने जताई नाराजगी  

इन दोनों ही घटनाओं में कुछ बातें समान हैं जैसे दोनों ही घटनाओं में पड़ोसियों ने मामूली सी बात पर बेजुबान की जान ले ली।  यानि उनमें ना तो पशु प्रेम था ना ही संजीदगी थी। लेकिन पुलिस से तो संजीदगी की अपेक्षा की जा सकती थी दोनों ही मामलों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं पीपुल फॉर एनिमल्स (PFA) की संस्थापक मेनका गांधी (Maneka Gandhi) के दखल के बाद मामला दर्ज किया गया।  बहरहाल हम उम्मीद करते हैं कि भविष्य में इस तरह की घटनाएं ना हों कोई बेजुबानों पर अत्याचार ना करे और ये ऐसा हो तो पुलिस तत्काल एक्शन ले।