नया सत्र: 1 अक्टूबर से कालेजों की ऑनलाइन क्लासेस, दूरदर्शन-आकाशवाणी पर होगा प्रसारण

दूरदर्शन(Doordrshan) और आकाशवाणी पर प्रतिदिन 3 घंटे तक ऑनलाइन कक्षाओं का प्रसारण किया जाएगा। इसके साथ ही साथ छात्रों को रेडियो(Radio) के जरिए भी पढ़ाई करवाई जाएगी।

IGNOU

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश(Madhyapradesh) में कोरोना(corona) महामारी से छात्रों की पढ़ाई सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। प्रदेश में आए दिन कोरोना के बढ़ते मामले चिंता का विषय बने हुए। इस विषय में अभी तक महाविद्यालय/विश्वविद्यालय को खोलने पर सहमति नहीं बनी है। इसी बीच उच्च शिक्षा विभाग ने स्नातक(UG) और स्नातकोत्तर(PG) पाठ्यक्रम के छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन हेतु आदेश जारी कर दिए हैं। 1 अक्टूबर 2020 से महाविद्यालय स्तर पर स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम की ऑनलाइन कक्षाएं( UG-PG classes) संचालित की जाएगी।

दरअसल उच्च शिक्षा विभाग (Higher Education Department) ने 1 अक्टूबर से कॉलेजों की कक्षाएं प्रारंभ  करने के निर्देश जारी किए हैं। यह कक्षाएं ऑनलाइन (Online Classes) होगी। छात्रों (Students) को घर बैठे ही जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। इसके निर्देश विश्वविद्यालय (University) ने कॉलेज को दिए गए हैं। यह ऑनलाइन कक्षाएं 1 अक्टूबर से 30 नवंबर तक चलेगी। लेक्चर (Lecture) सरकारी कॉलेज के प्रोफ़ेसर (Government Collage Professor) के अलावा अतिथि विद्वान (Guest Facility) और निजी कॉलेज के शिक्षक (Private Collage Faculties) भी दे सकते हैं। इसके लिए विभाग ने निर्देश भी जारी कर दिए हैं। छात्रों तक यह जानकारी पहुंचाने के लिए आकाशवाणी (Akashavani) का सहारा लिया जा रहा है। विषय विशेषज्ञों (Subject Specialist) द्वारा तैयार की गई लेक्चर आकाशवाणी के जरिए ही छात्रों को सुनाए जाएंगे। आकाशवाणी के साथ ही विभागीय पोर्टल (Department Portal) पर ऑडियो वीडियो (Audio Video) भी अपलोड किए जाएंगे। ताकि छात्र उसके जरिए जानकारी हासिल कर सके, साथ ही कॉलेजों के प्राचार्य से कहा गया है कि अपने स्तर पर कक्षा वार गूगल मीट के माध्यम से ऑनलाइन कक्षाएं संचालित कराएं और छात्रों की ओर से किए जाने वाले सवालों का जवाब दिया जाए। इतना ही नहीं नोटिस भी छात्रों को उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही व्याख्यान में ई-कंटेंट(E-content) के जरिए भी अपनी उपस्थिति का ब्यौरा दर्ज करवाएं। इसके साथ ही विश्वविद्यालय स्तर पर ऑडियो में लेक्चर वेबसाइट(website) पर भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

दूरदर्शन और आकाशवाणी पर प्रसारण

उच्च शिक्षा विभाग की जानकारी के मुताबिक दूरदर्शन(Doordrshan) और आकाशवाणी पर प्रतिदिन 3 घंटे तक ऑनलाइन कक्षाओं का प्रसारण किया जाएगा। इसके साथ ही साथ छात्रों को रेडियो(Radio) के जरिए भी पढ़ाई करवाई जाएगी। उच्च शिक्षा आयुक्त ने कॉलेजों में ऑनलाइन पढ़ाई की गाइडलाइन जारी की है। जिसके मुताबिक अब कॉलेजों में गूगल मीट(Google Meet) या ज़ूम ऐप(Zoom App) के जरिए ऑनलाइन क्लासेस का आयोजन किया जाएगा। जहां स्नातक के लिए अलग तरह की व्यवस्था होगी। वही स्नातकोत्तर के दोनों वर्षों के विद्यार्थियों के लिए अलग व्यवस्था की जाएगी। वही फिलहाल 2 महीने तक सभी कॉलेजों में ऑनलाइन क्लासों का संचालन किया जाएगा।

कक्षाओं का इस तरह होगा संचालन

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस साल नया शिक्षा सत्र 3 महीने की देरी से शुरू की जा रही है। जिसको लेकर अब 1 अक्टूबर से ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की जाएंगी। वहीं छात्रों को पाठ्यक्रम से जुडी जानकारी दूरदर्शन के माध्यम से पहुंचाई जाएगी। स्नातक के विद्यार्थियों के लिए 40 मिनट के तीन व्याख्यान वही स्नातकोत्तर के लिए 30-30 मिनट के 2 व्याख्यान दूरदर्शन और आकाशवाणी पर प्रसारित किए जाएंगे।

व्याख्यान की जांच के बाद ही होगा प्रसारण
प्रदेश स्तर से जारी होने वाले व्याख्यान की पहले जांच की जाएगी। इसके बाद ही प्रसारण होगा या पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा, ताकि किसी तरह की विरोधाभास की स्थिति उत्पन्न नहीं ही। हर दिन आकाशवाणी से 3 घंटे का प्रसारण होगा, जिसमें स्नातक कक्षाओं के 40-40 मिनट के तीन व्याख्यान होंगे और स्नातकोत्तर के 30-30 मिनट के दो व्याख्यान प्रसारित किए जाएंगे।

रेडियो हर छात्र के पास नहीं बढ़ेगी मुश्किलें
सरकार ने आकाशवाणी से कार्यक्रम प्रसारित कर छात्रों को दिलवाए जानने का आदेश तो जारी कर दिया है, लेकिन वर्तमान में रेडियो (Radio) काफी कम छात्रों के पास है। मोबाइल पर भी आकाशवाणी से प्रसारित होने वाले कार्यक्रम कई जिलों में सुनाई नहीं देते। एफएम (FM) प्रारंभ किए गया है लेकिन इसमें केवल विविध भारती (Vividh Bharti) के कार्यक्रम मोबाइल के जरिए सुने जा रहे हैं। छात्रों ने मांग उठाई है कि आकाशवाणी द्वारा प्रस्तुत कार्यक्रम के लिंक मोबाइल पर भी दी जाए ताकि वह भी सुन सके।

बता दें कि इस महामारी की वजह से नए शिक्षा सत्र में हुई देरी के बाद अब यूजी और पीजी के पाठ्यक्रम को समय पर पूरा करना कॉलेजों के लिए नई चुनौती साबित होने वाली है। एक तरफ जहां स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर के प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रम की पहली यूनिट 31 अक्टूबर तक पूरी करनी है। वहीं दूसरी यूनिट को नवंबर तक पूर्ण किया जाना। ऐसे में यह पूरी तरह से विश्वविद्यालय एवं छात्रों पर निर्भर है। वही लगातार इंटरनेट की परेशानी झेल रहे लोगों के लिए दूरदर्शन और आकाशवाणी पर पाठ्यक्रम का व्याख्यान प्रसारित किया जाएगा। जिससे छात्रों को दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

नया सत्र: 1 अक्टूबर से कालेजों की ऑनलाइन क्लासेस, दूरदर्शन-आकाशवाणी पर होगा प्रसारण नया सत्र: 1 अक्टूबर से कालेजों की ऑनलाइन क्लासेस, दूरदर्शन-आकाशवाणी पर होगा प्रसारण