अब अगले साल होगी 40% से कम रिजल्ट देने वाले शिक्षकाें की परीक्षा, विरोध भी तेज

शिक्षकों की दक्षता की परीक्षा की तिथि में बदलाव किया गया है। अब यह परीक्षा 3 व 4 जनवरी 2021 को होगी। इससे पहले यह परीक्षा 27 व 28 दिसम्बर को होने वाली थी|

Madhya Pradesh

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| मध्य प्रदेश में कक्षा 10 वीं और 12 वीं की कक्षाओं में 40 प्रतिशत से कम परीक्षा परिणाम देने वाले स्कूलों के शिक्षकों (Teachers) को दक्षता परीक्षा देनी होगी| शिक्षकों की दक्षता की परीक्षा की तिथि में बदलाव किया गया है। अब यह परीक्षा 3 व 4 जनवरी 2021 को होगी। इससे पहले यह परीक्षा 27 व 28 दिसम्बर को होने वाली थी| लोक शिक्षण संचालनालय ने परीक्षा तिथि (Exam Date) में बदलाव के आदेश जारी कर दिए हैं|

दरअसल, शिक्षण सत्र 2019-20 में दसवीं व बारहवीं की बोर्ड परीक्षा में जिन स्कूलों का परीक्षा परिणाम 40 फीसद से कम आया है, उन स्कूलों के शिक्षकों की योग्‍यता जांचने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ओपन बुक पैटर्न पर परीक्षा ली जा रही है| यानी परीक्षा के दौरान शिक्षक पाठ्यपुस्तक का उपयोग कर सकेंगे लेकिन प्रादर्श, गाइड आदि का उपयोग नहीं होगा।

प्रदेश भर में इस परीक्षा का विरोध भी तेज हो गया है| इस आदेश को रद्द करने की मांग की जा रही है| अलग जिलों में इस सम्बन्ध में ज्ञापन दिए जा रहे हैं| बताया जा रहा है कि परीक्षा में शामिल ना हाेने वाले शिक्षकाें काे कारण बताओ नाेटिस जारी हाेगा। जाे पास नहीं हाेंगे उन्हें दक्षता सुधार के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जाएगा। मार्च में दाेबारा परीक्षा हाेगी। इसके बाद भी पास ना हाेने पर विभाग सख्त कार्रवाई करेगा। हाई स्कूल और हायर सेकेंडरी स्कूलों के शिक्षकों के साथ इनके कैचमेंट में आने वाले माध्यमिक शालाओं की दक्षता परीक्षा लिया जाना भी शामिल है।

पिछले साल भी हुई थी परीक्षा, 16 को दी गई थी अनिवार्य सेवानिवृत्ति
पिछले साल भी कुछ इसी पैटर्न पर शिक्षकों की दक्षता परीक्षा ली गई थी| स्कूल शिक्षा विभाग ने दसवीं बोर्ड परीक्षा में 30 फीसद से कम परीक्षा परिणाम लाने वाले स्कूलों के शिक्षकों की परीक्षा दो बार ली थी। दुबारा फेल होने व अनुपस्थित रहने पर प्रदेश के 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी गई थी।

अब अगले साल होगी 40% से कम रिजल्ट देने वाले शिक्षकाें की परीक्षा, विरोध भी तेज