भोपाल।
राजधानी भोपाल में सीनियर अधिकारियों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद हड़कंप मच गया है।अब प्रदेश के मुख्‍य सचिव इकबाल सिंह बैंस (Iqbal Singh Base) का सैंपल जांच के लिए भेजा गया है।वही स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का भी कोरोना संक्रमित होने के बाद सैंपल लिया गया है।अब इन अधिकारियों की रिपोर्ट का इंतजार है।

दरअसल, प्रमुख सचिव स्वास्थ पल्लवी जैन गोविल और स्वास्थ्य संचालक विजय कुमार बी के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद ब्यूरोक्रेसी में डर पैदा हो गया है।हैरानी की बात तो ये है कि जहां गोविल के बंगले के बाहर कोविड-19 का पोस्टर लगना चाहिए था वह आज तक यह पोस्टर नहीं लगा है। वे खुद कोरोन्टाइन में ना रहते हुए लगातार वीवीआईपी के साथ में मीटिंग लेती नहीं जिसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री ,मुख्य सचिव सहित स्वास्थ्य विभाग के कई आला अधिकारी मौजूद थे ।यदि समय रहते जिला प्रशासन ने सही कार्यवाही की होती तो शायद आज स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप न मचा होता । संपर्क में आने वाले लोग सावधान हो गए है और अपनी जांच करवा रहे है , कुछ तो होम आइसोलेशन में चले गए है। वही विजय कुमार बजाए कोविड-19 के लिए चयनित किए गए चिरायु अस्पताल या एम्स की बजाए एक निजी अस्पताल में जाकर भर्ती हो गए। ऐसा करके उन्होंने अस्पताल में भर्ती अन्य मरीजों, डॉक्टरों और पैरामेडिकल की लिए भी खतरा पैदा कर दिया है। कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए अब प्रदेश के मुख्‍य सचिव इकबाल सिंह बैंस और कुछ स्वास्थ्य विभाग के अफसरों का कोरोना संक्रमित होने के बाद सैंपल लिया गया है।

वहीं, राज्य सरकार ने अफसरों की बी टीम तैयार कर दी है।अफसरों की बी टीम भी तैयार
प्रदेश में काेराेना के खिलाफ बनी वाॅर टीम के अफसर यदि बीमार पड़ते हैं तो सरकार ने जरूरत के लिए अफसराें की टीम बी भी तैयार रखी है।पहली टीम मेंपल्लवी जैन गोविल, फैज अहमद किदवई, आईसीपी केशरी, संजय दुबे, शिव शेखर शुक्ला, संजय शुक्ला, नंद कुमारम, अनुराग जैन, मोहम्मद सुलेमान, मनोज श्रीवास्तव, विजय कुमार जे, छवि भारद्वाज, निशांत बरवड़े और स्वाति मीणा नायक।वही दूसरी टीम में राजेश राजाैरा, नीतेश व्यास, मोहम्मद सुलेमान, उमाकांत उमराव, दीपाली रस्तोगी, डीपी आहूजा, बी. चंद्रशेखर, मनोज गोविल, मनू श्रीवास्तव, अशोक वर्णवाल, एस धनराजू, इलैया राजा टी, संदीप यादव और विवेक पोरवाल।ये अफसर कोरोना के खिलाफ बनी वार टीम का हिस्सा होंगे।