अब सहकारिता विभाग में की गई राजनीतिक नियुक्तियां निरस्त

भोपाल। राज्य सरकार ने बुधवार को प्रदेश की विभिन्न सहकारी संस्थाओं में नियुक्त सभी अशासकीय प्रशासकों की नियुक्ति तत्काल समाप्त किए जाने के निर्देश जारी कर दिये हैं।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रमुख सचिव सहकारिता एवं पंजियक सहकारी संस्थाओं को ये निर्देश दिए गए हैं। साथ ही निर्देश दिए गए हैं कि उनके स्थान पर शासकीय अधिकारियों की नियुक्ति प्रशासक के रूप में की जाए।

आदेश अंतर्गत अपेक्स बैंक के प्रशासक अशोक सिंह को हटा दिया गया है और पंजीयक सहकारी संस्थाओं को अपेक्स बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है। वहीं दुग्ध महासंघ भोपाल के प्रशासक तवर सिंह को हटाकर उनकी जगह प्रमुख सचिव पशुपालन डीपी आहूजा को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रदेश की 29 सहकारी केंद्रीय बैंक से भी प्रशासक हटा दिये गए हैं और उन जिलों के उप पंजीयक सहकारिता को प्रशासक बनाया गया है।

बता दे कि कमल नाथ सरकार ने कांग्रेस नेताओं को उपकृत करने के लिए प्रशासक बनाया था।
जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में जो प्रशासक बनाए थे, उनमें कमल नाथ, दिग्विजय सिंह, डॉ.गोविंद सिंह सहित अन्य नेताओं के समर्थकों को तवज्जो दी गई थी। सत्ता परिवर्तन से कुछ दिन पहले ही भोपाल जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में सुभाष शुक्ला को प्रशासक बनाया गया था। इसी तरह रायसेन, देवास और खरगोन में भी प्रशासक बनाए गए थे लेकिन आपसी विवाद के चलते कार्यभार ग्रहण करने पर रोक लगा दी थी। वहीं, सीहोर, सतना और छतरपुर में पहले से अध्यक्ष पदस्थ है। होशंगाबाद, खरगोन, खंडवा और देवास में कलेक्टर प्रशासक हैं।

 

अब सहकारिता विभाग में की गई राजनीतिक नियुक्तियां निरस्त