“सिंधिया” के बयान पर ‘लक्ष्मण सिंह’ का पलटवार, कह दी ये बड़ी बात

भोपाल।

मध्य प्रदेश में लगातार राजनीतिक गलियारे का सियासी पारा चढ़ा हुआ है। जहां एक तरफ ज्योतिरादित्य सिंधिया खुलकर राजनीतिक मैदान में सामने आ गया है वहीं दूसरी तरफ उनके द्वारा लगातार किए जा रहे कांग्रेस पर वार कांग्रेसी नेताओं को हजम नहीं हो रहा। ऐसे में अब सिंधिया के बयान पर दिग्विजय सिंह के भाई एवं कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक लक्ष्मण सिंह ने बड़ा हमला बोला है।

दरअसल ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस की पूरी सरकार को भ्रष्टाचार करने के मामले में गिरते हुए सीनियर विधायक लक्ष्मण सिंह ने उन्हें आड़े हाथ लिया है। कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा यदि कांग्रेस के 15 माह के कार्यकाल मैं सभी भ्रष्ट थे तो वह भी उसी सरकार में रहे हैं। उनके साथ गए सारे विधायक जो दोबारा मंत्री बनाए गए हैं वह भी भ्रष्टाचार में संलिप्त रहे होंगे। ऐसे में भ्रष्टाचारी मंत्री को दोबारा मंत्र बनाना क्या भ्रष्टाचार को बढ़ावा देना नहीं है। इसके साथ ही लक्ष्मण सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि जितने भी कांग्रेस से भाजपा में शामिल होकर मंत्री बने हैं वह सब के सब बेईमान है और इनका साक्षात प्रमाण उनके पास है। लक्ष्मण सिंह ने कहा है वह यह प्रमाण प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा तक को मौजूद करवा सकते हैं। इसके साथ ही वरिष्ठ कांग्रेसी विधायक लक्ष्मण सिंह ने कहा कि यदि सिंधिया और उनके जैसे नेताओं को लगता है कि कांग्रेस भ्रष्टाचार में संलिप्त सरकार थी तो वह 15 माह के कार्यकाल की लोकायुक्त सीबीआई से जांच करा सकते हैं।

बता दें कि मंगलवार को उमा भारती से मुलाकात करने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि प्रदेश की जनता का अब कांग्रेस से मोहभंग हो चुका है।इसके साथ ही सिंधिया ने कहा था कि प्रदेश में 15 महीने से वल्लभ भवन में पूरी भ्रष्टाचार में संलिप्त सरकार चल रही थी। कांग्रेस सरकार में ना कोई जन सेवा का काम हुआ और ना ही तब की प्रदेश सरकार कोरोना पर ही काबू कर सकी। हालांकि सिंधिया के इस बयान के बाद लक्ष्मण सिंह का पलटवार करना यह तो साफ जाहिर कर चुका है कि कांग्रेस से हर तरफ से मोर्चा संभाले हुए हैं और वह किसी भी स्थिति में ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं कांग्रेस से बागी हुए विधायकों को छोड़ने वाले नहीं हैं।