मध्य प्रदेश : राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत प्राध्यापकों का ऑनलाइन प्रशिक्षण शुरू

उच्च शिक्षा विभाग द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्नातक द्वितीय वर्ष के 40 विषयों के ई-कंटेंट निर्माण के लिये लगभग 1300 विषय-विशेषज्ञ प्राध्यापकों का ऑनलाइन प्रशिक्षण सोमवार से प्रारंभ हुआ। उच्च शिक्षा आयुक्त दीपक सिंह ने प्रथम चरण के 6 दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। प्रथम चरण का प्रशिक्षण 28 मई तक चलेगा।

mp cm rise school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्नातक द्वितीय वर्ष के 40 विषयों के ई-कंटेंट निर्माण के लिये लगभग 1300 विषय-विशेषज्ञ प्राध्यापकों का ऑनलाइन प्रशिक्षण सोमवार से प्रारंभ हुआ। उच्च शिक्षा आयुक्त दीपक सिंह ने प्रथम चरण के 6 दिवसीय प्रशिक्षण का शुभारंभ किया। प्रथम चरण का प्रशिक्षण 28 मई तक चलेगा।

उच्च शिक्षा आयुक्त दीपक सिंह ने कहा कि विभाग का मुख्य उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा को प्रदेश के ग्रामीण और दूरस्थ क्षेत्रों के विद्यार्थियों तक प्रभावी रूप से पहुंचाना है। गुणवत्ता में सुधार के लिये टीचिंग स्टॉफ का स्किल डेवलपमेंट, आधुनिक शिक्षा प्रणाली और तकनीक का प्रयोग वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन प्रशिक्षण के प्रथम चरण में प्रतिदिन 5 सत्र में ई-कंटेंट निर्माण से संबंधित ई-टेक्स्ट लेखन, रोचक पीपीटी निर्माण, मूल्यांकन क्विज तथा वीडियो रिकॉडिंग आदि सभी विषयों पर देश के प्रतिष्ठित विद्वानों के व्याख्यान होंगे।

उन्होंने आगे बताया कि संकाय संवर्धन कार्यक्रम का द्वितीय चरण 30 मई से 6 जून तक किया जायेगा, जिसमें समाज-शास्त्र, राजनीति-शास्त्र, गणित भौतिक-शास्त्र आदि विषयों में ई-कंटेंट निर्माण के लिये प्रशिक्षण दिया जायेगा।

ये भी पढ़े … राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, सभी जिलों में होंगे कमांड कंट्रोल सेन्टर, ऐसे मिलेगा लाभ

राष्ट्रीय शिक्षा नीति समन्वय प्रकोष्ठ मध्यप्रदेश की सदस्य डॉ. दिवा मिश्रा ने बताया कि इस महत्वाकांक्षी प्रशिक्षण के प्रथम चरण में प्राचीन भारतीय इतिहास, पर्यावरण विज्ञान, वेद, संस्कृत, कम्प्यूटर विज्ञान, दर्शन-शास्त्र, लेखांकन, योग-ध्यान, हिन्दी, अंग्रेजी, मनोविज्ञान, शारीरिक शिक्षा तथा राष्ट्रीय सेवा योजना आदि 22 विषयों में ई-कंटेंट निर्माण के लिये 10 संभागों के नोडल अधिकारियों से चयनित 400 विषय-विशेषज्ञ प्राध्यापकों को प्रशिक्षण दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण में तकनीकी-सत्रों का आयोजन भी किया जायेगा, जिसमें सभी प्राध्यापक अपनी तकनीकी जिज्ञासाओं का समाधान हेण्ड्स ऑन प्रेक्टिस से कर सकेंगे।

उच्च शिक्षा उत्कृष्टता संस्थान भोपाल के निदेशक डॉ. प्रज्ञेश कुमार अग्रवाल ने ‘ई-कंटेंट के विविध प्रकार’ विषय पर प्रस्तुति दी। एनईटीटीटीआर भोपाल के प्रो. निषिथ दुबे ने ‘ई-कंटेंट मॉड्यूल निर्माता की भूमिका तथा उत्तरदायित्व’, उच्च शिक्षा उत्कृष्टता संस्थान के प्रोफेसर डॉ. अजय कुमार भारद्वाज ने ‘ई-कंटेंट मॉड्यूल के चतुर्थांश तथा तत्वों की समीक्षा’ की विस्तृत जानकारी दी।