राजनीति: कांग्रेस में जाते ही बोले गोडसे भक्त चौरसिया “वो दिन जीवन का काला दिन था”

बाबूलाल चौरसिया

ग्वालियर, अतुल सक्सेना।  हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) के इकलौते पार्षद रहे बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) ने कांग्रेस (Congress) ज्वाइन करने को अपनी घर वापसी बताते हुए हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) पर जमकर हमला बोला है। नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की पूजा के सवाल पर उन्होंने उस दिन को काला दिन कहते हुए कहा कि मुझसे भूल भुलैया में ऐसा काम हो गया। उधर हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) ने कहा कि हमने तो पार्टी से निकाल दिया था। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ही गांधीवाद की हत्या कर रही है तो कोई क्या कर सकता है

ग्वालियर नगर निगम के वार्ड 44 से हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) के टिकट पर पार्षद रहे बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) के कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद से ग्वालियर की राजनीति गरमा गई है। ग्वालियर दक्षिण विधानसभा के कांग्रेस विधायक प्रवीण पाठक (Congress MLA Praveen Pathak) के माध्यम से पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamalnath )के सामने कांग्रेस की सदस्यता लेने वाले पूर्व पार्षद बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) ने हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि मैं पहले भी कांग्रेस में था, कांग्रेस के टिकट पर पार्षद रहा लेकिन जब पिछले चुनाव में मेरा टिकट कट गया तो हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) ने मेरा फार्म भरवा दिया और मैं उनके टिकट पर पार्षद बन गया।

वो दिन मेरे जीवन का काला दिन था 

बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) ने कहा कि इस कार्यकाल के दौरान कुछ घटनाक्रम ऐसे घटे जिसे मेरी आत्मा गवारा नहीं कर रही थी और मैं घर वापसी की सोच रहा था जो विधायक प्रवीण पाठक (MLA Praveen Pathak ) के माध्यम से संभव हो सकी। गोडसे (Godse) की पूजा के सवाल पर बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) ने कहा कि वो जो एक दिन था जिसे मैं काला दिन कहूंगा।  भूल भुलैया में रहकर मुझसे ऐसा काम हो गया। उन्होंने  कहा कि मैं मध्यप्रदेश में इकलौता हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) का पार्षद था संभवतः भारत में भी मैं ही अकेला हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) से पार्षद था। अब मैं भी कांग्रेस (Congress) में आ गया तो वहां बचा क्या? उन्होंने हिन्दू महासभा  (Hindu Mahasabha) में रहते हुए गोडसे (Godse) के पक्ष में दिए हुए उनके सभी बयानों से किनारा कर लिया।

ये भी पढ़ें – नरोत्तम मिश्रा का कांग्रेस पर तंज- नोट और वोट के लिए करते है राष्ट्रपिता के नाम का उपयोग

हिन्दू महासभा का दावा पार्टी से निकाल दिया था

बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) के कांग्रेस (Congress ) में जाने के सवाल पर हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भारद्वाज ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि हमने उन्हें 15 पहले ही शोकॉज नोटिस दिया था और फिर पार्टी से निकाल दिया था वे पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त थे। उनकी अनियमितताओं  की शिकायतें मिल रहीं थी। डॉ भारद्वाज ने आरोप लगाए कि बाबूलाल पैसे की  वसूली भी कर रहे थे।

ये भी पढ़ें – MP: नगर निकाय चुनाव से पहले गोडसे भक्त की कांग्रेस में वापसी, उठने लगे हैं सवाल

गोडसे की मूर्ति स्थापना में प्रमुख रूप से शामिल थे चौरसिया 

हिन्दू महासभा (Hindu Mahasabha) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भारद्वाज ने कहा कि अब कमलनाथ और कांग्रेस ही गांधीवाद की हत्या कर रही है, तो कोई क्या कर सकता है। डॉ भारद्वाज ने कहा कि जब ग्वालियर में हिन्दू महासभा कार्यालय में  नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) की मूर्ति लगाने की योजना बनी थी तो बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) मुख्य रूप से शामिल थे और जब मूर्ति की स्थापना हुई तो बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya)ने स्थापना कराई , पूजा अर्चना की अब कहें।  उन्होंने कहा कि क्या कोई किसी से कोई जबरदस्ती ऐसा काम करा सकता है क्या?