कोरोना वैक्सीन पर सियासत तेज, सवाल उठाने वालों पर शिवराज ने किया अटैक

दें कांग्रेस नेता शशि थरूर ने टीकों की आपात मंजूरी पर सवाल उठाते हुए कहा था कि 'भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण अभी तक नहीं हुआ है. कोवैक्सीन को समय से पहले मंजूरी देना खतरनाक हो सकता है.

मुख्यमंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट| देश में अब तक दो कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) को मंजूरी मिल चुकी है, वहीं वैक्सीन पर सवाल भी उठने लगे हैं| जिसके चलते सियासत का पारा भी चढ़ गया है| समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने इस वैक्सीन को बीजेपी (BJP) का टीका बताते हुए इस लगवाने से इंकार कर दिया तो वहीं कांग्रेसी नेताओं ने वैक्सीन के अप्रूवल पर सवाल उठाए हैं| विपक्ष के सवालों पर अब बीजेपी भी पलटवार कर रही है| मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने ट्वीट कर सवाल उठाने वालों पर निशाना साधा है|

सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा- टीके में भी राजनीति?? हे ईश्वर! कमाल है भाई, भाजपा पर टीका-टिप्पणी करते-करते इतने भ्रमित हो गये कि उनके लिए अब कोविड का टीका भी भाजपा का हो गया! अब कोई इस पर क्या टिप्पणी करे! ऐसी बातें कर लाखों लोगों को भ्रमित कर उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना अच्छी बात नहीं।

बता दें कांग्रेस नेता शशि थरूर ने टीकों की आपात मंजूरी पर सवाल उठाते हुए कहा था कि ‘भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण अभी तक नहीं हुआ है. कोवैक्सीन को समय से पहले मंजूरी देना खतरनाक हो सकता है| डॉ हर्षवर्धन इस संबंध में स्पष्टीकरण दें. कोरोना वैक्सीन का ट्रायल पूरा होने तक इसके उपयोग से बचा जाना चाहिए| भारत को इस दौरान एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का इस्तेमाल करना चाहिए| इससे पहले अखिलेश ने शनिवार को कहा था कि ये कोरोना टीका बीजेपी का है और वे कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाएंगे क्योंकि उन्हें इस टीके पर भरोसा नहीं है| अखिलेश ने कहा कि जब उत्तर प्रदेश में उनकी सरकार बनेगी तो वे प्रदेश की जनता को मुफ्त टीका लगवाएंगे| इसके साथ ही अब तक कई विपक्षी नेता कोरोना वैक्सीन को लेकर सवाल खड़े कर चुके हैं|