गायब हुए “महाराज”, सड़कों पर लगे पोस्टर “तलाश है गुमशुदा जन सेवक की”

ग्वालियर।अतुल सक्सेना।

जिस कांग्रेस को ग्वालियर चंबल अंचल में कभी सिंधिया कांग्रेस के नाम से पहचाना जाता था और अधिकांश युवा नेता उन्हें अपना आदर्श मानते थे आज उसी कांग्रेस के लोग सिंधिया को तलाश रहे हैं। शहर सहित अंचल में सिंधिया की गुमशुदगी के पोस्टर लगवा रहे हैं । खास बात ये भी है तलाश करने वाले को 5100 रुपये की इनामी राशि देने की बात भी पोस्टर पर लिखी है।

ग्वालियर निवासी मप्र कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह राजावत ने ज्योतिरादित्य सिंधिया की तलाश में पोस्टर लगाने का अभियान शुरू किया है। महल गेट से शुरुआत करते हुए ये पोस्टर पूरे शहर और अंचल में लगाए जाने की बात कही जा रही है। पोस्टर में लिखा है ” तलाश है एक गुमशुदा जन सेवक की” । तलाश करने वाले को 5100रुपये का इनाम भी दिया जायेगा।

कांग्रेस नेता सिद्धार्थ सिंह ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए कहा कि ज्योतिरादित्य सिंधिया जी जो खुद को जन सेवक कहते हैं और उन्हें कांग्रेस में रहते हुए जन सेवा का मौका नहीं मिल रहा था इसलिए वे भाजपा में चले गए लेकिन जब प्रदेश और अंचल की जनता कोरोना जैसी महामारी से जूझ रही है तो वे कहाँ हैं। उनकी जन सेवा की भावना कहाँ चली गई। उन्होंने अतिथि शिक्षकों के लिए सड़क पर उतरने की बता भी कही थी आज वो बात कहाँ गई। इसलिए हैं उन्हें तलाश रहे हैं और पूरे ग्वालियर चंबल अंचल में उनके पोस्टर लगा रहे हैं।

गायब हुए "महाराज", सड़कों पर लगे पोस्टर "तलाश है गुमशुदा जन सेवक की"

गायब हुए "महाराज", सड़कों पर लगे पोस्टर "तलाश है गुमशुदा जन सेवक की"