अमरीका : गर्भपात को लेकर विरोध प्रदर्शन, राष्ट्रपति ने इस कदम को बताया कट्टरपंथी

अमेरिका में गर्भपात के अधिकारों को पलटने वाले फैसले के खिलाफ हजारों लोगों ने यूएस सुप्रीम कोर्ट के बाहर विरोध प्रदर्शन किया है, देश के ऐतिहासिक रो वी वेड फैसले को उलटने के लिए एक तैयार किया गया डॉक्यूमेंट लीक हो गया था, जिसके बाद से लोग सड़कों पर उतर आए है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। अमेरिका में गर्भपात के अधिकारों को पलटने वाले फैसले के खिलाफ हजारों लोगों ने यूएस सुप्रीम कोर्ट के बाहर विरोध प्रदर्शन किया है, देश के ऐतिहासिक रो वी वेड फैसले को उलटने के लिए एक तैयार किया गया डॉक्यूमेंट लीक हो गया था, जिसके बाद से लोग सड़कों पर उतर आए है।

बता दे पोलिटिको ने पहली बार सुप्रीम कोर्ट के लीक दस्तावेज के अनुसार मिसाल कायम करने वाले 1973 के फैसले को संशोधित करने की खबर दी थी, जिसने अमेरिका में गर्भपात के लिए एक महिला के अधिकार को निर्धारित किया है।

मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने मंगलवार को इस बात की पुष्टि भी की, कि दस्तावेज “प्रामाणिक” था, लेकिन उन्होंने आगे जोर देकर कहा कि यह अंतिम नहीं है।

आपको बता दे गर्भपात अमेरिका में पुराने समय से सियासी मुद्दा रहा है, अधिकांश अमेरिकी रो वी वेड का समर्थन करते हैं। पिछले महीने के अंत में किए गए वाशिंगटन पोस्ट-एबीसी न्यूज पोल के अनुसार, 54 प्रतिशत लोगों को लगता है कि सुप्रीम कोर्ट को फैसले को बरकरार रखना चाहिए, जबकि 28 प्रतिशत लोगों ने कहा कि इसे गर्भपात के अधिकार को प्रतिबंधित कर दिया जाना चाहिए।

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के बाहर, इस फैसले के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने हजारों की संख्या में पहुंचकर विरोध प्रदर्शन किया। महिलाओं ने ‘मेरे शरीर पर प्रतिबंध’, ‘ महिलाओं के अधिकार’, ‘महिलाओं के मानव अधिकार’, ‘मेरा शरीर मेरा पर्सनल’ जैसी तख्तियां लेकर गर्भपात अधिकार के समर्थन में कोर्ट के सामने प्रदर्शन किया।

उधर, राष्ट्रपति जो बिडेन ने वाशिंगटन में डेमोक्रेट के रूप में अपेक्षित कदम को “कट्टरपंथी” बताया और इस अधिकार की रक्षा के लिए उपयुक्त तरीके को खोजने की सलाह दी है।