भोपाल जिला प्रशासन के इस निर्णय पर उठे सवाल

भोपाल।
मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना संदिग्ध और संक्रमित व्यक्ति की मृत्यु होने पर अंतिम संस्कार के लिए चार स्थलों को चिन्हाकिंत किया गया है, जिसके तहत सुभाष नगर और भदभदा विश्राम घाट, जद्दा जहांगीराबाद और ग्रेब्रियार्ड बरखेड़ी कब्रिस्तान पर ही कोरोना संक्रमित और संदिग्ध मृतक का अंतिम संस्कार किया जा सकेगा।इसी के साथ भदभदा विश्राम घाट पर समिति ने सुरक्षा की दृष्टि से फैसला किया है कि अंतिम संस्कार के लिए अब सैनिटाइज होकर ही शव चिता स्थल तक पहुंचेगा।इसके लिए समिति ने एक सैनिटाइज रुम भी बनाया है, जिसमें से शव और उसे ले जाने वाले लोग सैनिटाइज होकर बाहर निकलेंगे। लेकिन समिति के इस फैसले पर सवाल खड़े हो रहे है।

कोविड-19 की तकनीकी समिति के सलाहकार डॉ.लोकेन्द्र दवे का कहना है कि सैनिटाइज में अल्कोहल और रसायन होते हैं, ऐसे में जीवित व्यक्ति को आग पकड़ने का खतरा होगा। आग के दौरान जीवित शरीर पर रासायनिक छिड़काव हानिकारक साबित होगा ,ऐसे में हादसा भी हो सकता है।मेरा अनुरोध है कि इस फैसले को वापस लिया जाए , यह सुरक्षा की दृष्टि से ठीक नही और ना ही मददगार।अब देखना है कि जिला प्रशासन आगे क्या फैसला लेता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here