रायसेन, डेस्क रिपोर्ट। प्रधानमंत्री आवास योजना (PM Aawas Yojna)  यह वह योजना है, जो गरीब परिवारों को झोपड़ी कच्चे मकान से पक्के मकान में पहुचाती है। लेकिन क्या वास्तव में ग्रामीण क्षेत्रों में पात्र हितग्राहियों को इसका लाभ मिल पा रहा है या फिर ग्रामीण पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास योजना में कोई गड़बड़झाला चल रहा है।

रायसेन के बेगमगंज जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत मोइया के खामखेड़ा गाब के लोगों ने प्रधानमंत्री आवास योजना (PM Aawas Yojna) में मनमानी सहित आवास दिलाने के नाम पर पैसे लेने का ग्रामीणों ने आरोप लगाया है इसकी शिकायत ग्रामीणों द्वारा कलेक्टर तक की गई है।

Read More: कोरोना के एक नए वैरिएंट का खुलासा, डेल्टा से अधिक खतरनाक और संक्रामक है Lambda Varient!

दरअसल खामखेड़ा गांव के लोगों का कहना है कि उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ देने का लालच देकर उनसे पंचायत के रोजगार सहायक ने पैसों की मांग की तो कुछ लोगों से पैसे भी ले लिए गए और ग्रामीणों से कहा कि आप लोगों का आवास आ गया है, कच्चे मकान तोड़ लीजिए। जिसके बाद गांव के कुछ लोगों ने मकान भी तोड़ दिए और बाद में उनको आवास का लाभ भी नहीं दिया।

इसी पूरे मामले को लेकर दर्जनों ग्रामीणों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर रायसेन कलेक्टर के नाम ज्ञापन भी सौंपा और पीएम आवास योजना की जांच की मांग की गई तो वही वरिष्ठ अधिकारियों ने ग्रामीणों की शिकायत पर जांच के आदेश भी दे दिए गए। अब देखना है कि इस पूरे मामले में ग्रामीणों के आरोपो पर की गई शिकायत की कब तक और क्या जांच एवं कार्रवाई हो पाती है।

पीएम आवास योजना में मनमानी गड़बड़ी, ग्रामीणों ने कलेक्टर तक की शिकायत