Ratlam : कर्नाटक के राज्यपाल थावरचंद गेहलोत सम्मानित

रतलाम, मनोज श्रीवास्तव। कर्नाटक के राज्यपाल महामहिम थावरचंद गेहलोत (Thawarchand Gehlot) ने कहा कि  जीवन में जो भी दायित्व मिले, उसे पूरी निष्ठा और ईमानदारी से निर्वाह किया जाता है तो तरक्की अवश्य मिलती है। रतलाम में मेरा जो सम्मान हुआ है, उससे मुझे प्रेरणा मिली है कि और अच्छा काम करता रहूं। मैं स्वयं को रतलाम जिले का ऋणी मानता हॅूं। जिले के विकास के लिए जो भी जरूरी होगा, उसमें पूरा सहयोग करूंगा। बता दें कि राज्यपाल थावरचंद गेहलोत को जेएमडी पैलेस में नगर की 25 से अधिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित किया गया।

धान खरीद को लेकर महत्वपूर्ण बैठक, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

इस अभिनंदन समारोह में उन्हें शॉल-श्रीफल एवं प्रतीक चिन्ह आदि भेंट कर सार्वजनिक अभिनंदन किया गया। समारोह में रतलाम सांसद गुमानसिंह डामोर, समिति अध्यक्ष एवं शहर विधायक जावरा एवं रतलाम ग्रामीण विधायक, भाजपा जिलाध्यक्ष स्वागताध्यक्ष पद्मश्री डॉ. लीला जोशी तथा पूर्व विधायक एवं राज्यपाल के पुत्र जितेंद्रसिंह गेहलोत उपस्थित रहे। इस अवसर पर राज्यपाल थावरचंद गेहलोत ने अपने बचपन से लेकर राजनीतिक जीवन एवं उच्चतम स्तर पर सेवा के अवसर प्राप्त होने के प्रसंगों का वर्णन करते हुए कहा कि उन्हें जो भी दायित्व मिला, उसे उन्होंने पूरे कर्तव्य निष्ठा एवं ईमानदारी से निभाया। इससे वे लगातार आगे बढ़ते गए। उन्होने कहा कि देश और दुनिया में आज पर्यावरण, आतंकवाद एवं कोरोना महामारी जैसी कई समस्याएं है, वहीं असमानता का वातावरण बढ़ रहा है। इन सबसे उबरने के लिए समरसता की महती आवश्यकता है।

यहां रतलाम सांसद गुमानसिंह डामोर ने कहा कि यह पहला अवसर है, कि हम हमारी मिट्टी के लाल को राज्यपाल के रूप में देख रहे है। डामोर ने लोकसभा राज्यसभा में राज्यपाल थावरचंद गेहलोत के व्यक्तित्व एवं कृतित्व का वर्णन करते हुए कहा कि जीवन में अनुशासन देखना और सीखना हो तो आपसे सीखा जा सकता है। पूर्व गृह एवं परिवहन मंत्री एवं राज्य योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ भाजपा नेता हिम्मत कोठारी ने कहा कि थावरचंद गेहलोत का राज्यपाल बनना रतलाम ही नहीं पूरे प्रदेश के लिए गौरव की बात है। वे मजदूर राजनीति से शुरूआत कर शुन्य से शिखर तक पहुंचे है। उन्होने ने स्व. कुशाभाऊ ठाकरे से जुड़ी स्मृतियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि विधायक, मंत्री, सांसद, केन्द्रीय संसदीय बोर्ड आदि कई रूपों में आपने कार्य कर प्रदेश को गौरवान्वित किया है। उनका जीवन काम करते रहने की प्रेरणा देने वाला है। आरंभ में स्वागत भाषण स्वागताध्यक्ष पद्मश्री डॉ. लीला जोशी ने दिया। समारोह में बड़ी संख्या में नगरवासी उपस्थित थे। इस अवसर पर अन्य विधायकों ने भी संबोधित किया।