RBI का नया प्लान: AI के जरिए रखेगा बैंकों पर नजर, रेगुलेटरी सुपरविजन में होगा सुधार, पढ़ें पूरी खबर

Banking News: दुनिया में आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस उर्फ AI का बोलबाला बढ़ता जा रहा है। अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) भी अपने सुपरविजन कार्यों के एआई का इस्तेमाल करने की तैयारी कर रहा है। इसके लिए केन्द्रीय बैंक ने कुछ कंपनियों का चयन भी किया है, जिनके McKinsey और Accenture Solutions हैं।

ये है वजह

एआई की लोकप्रियता दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। इसके कई नुकसान और फायदे हैं। सबसे बड़ा फायदा यह कि आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस के इस्तेमाल से गलतियों की गुंजाइश कम हो जाती है। इंसानों के मुकाबले यह कम समय में कैलकुलेशन का सटीक जवाब देता है। शायद इसलिए आरबीआई अपने विशाल डेटाबेस के विश्लेषण करने और बैंकों के साथ -साथ गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (NBFC) पर रेगुलेटरी सुपरविजन में सुधार लाने के लिए एआई, एनालिस्टिक्स और ML का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करना चाहता है, जिसके लिए सेंट्रल बैंक बाहरी विशेषज्ञों को नियुक्त करने की प्लानिंग कर रहा है।

पिछले साल से चल रही है तैयारी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल आरबीआई ने निरीक्षण में Analystics, एआई और एमएल के इस्तेमाल के लिए सलाहकारों को शामिल के लिए अभिरुचि पत्र (EoI) आमंत्रित किए थे। ईओआई दस्तावेजों के मूल्यांकन के आधार पर सात आवेदकों को सलाहकारों के लिए छाँटा गया था। इस लिस्ट में डेलॉयट टौशे तोहमात्सू इंडिया एलएलपी, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप प्राइवेट लिमिटेड, एक्सेंचर सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड, अन्सर्ट एंड यंग एलएलपी, मैकिन्से एंड कंपनी, केपीएमजी एश्योरेन्स एंड कंसल्टिंग सर्विसेज़ एलएलपी और प्राइसवाटरहाउस कूपर्स प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं। इतना ही नहीं आरबीआई के दस्तावेजों के अनुसार केन्द्रीय बैंक ने McKinsey और Accenture Solutions के साथ 91 करोड़ रुपये का कॉन्ट्रैक्ट भ दिया था।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News