MP Politics: कांग्रेस कार्यालय पहुंची रिपोर्ट, भितरघात नेताओं पर बड़े एक्शन की तैयारी में कमलनाथ

चुनाव में साफ हो गया है कि जनता ने कांग्रेस को पूरी तरह से ठुकरा दिया है और इसका मुख्य कारण पार्टी का अनुभवी नेताओं को प्रताड़ित किया जाना है।

MP Politics

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश उपचुनाव (Madhya Pradesh by-election) में करारी हार मिलने के बाद कांग्रेस (congress)  लगातार मंथन में जुटी हुई है। इसके साथ ही साथ पार्टी से बात करने वाले नेताओं पर भी कॉन्ग्रेस बड़ा एक्शन (action) लेने की तैयारी में है। जिसके लिए पीसीसी चीफ कमलनाथ (PCC Chief Kamal Nath) के निर्देश पर उपचुनाव में हारी हुई सीटों पर उम्मीदवारों के रिपोर्ट कार्ड (report card) मंगवाए गए हैं। इस मामले में जल्द ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी और पार्टी हाईकमान (Party high command) निर्णय लेगी।

वही गोपनीय रिपोर्ट कर बोलते हुए पीसीसी कार्यालय प्रभारी ने स्पष्ट किया है कि उपचुनाव वाले विधानसभा सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों की रिपोर्ट मांगी गई थी। जो पार्टी कार्यालय पहुंचने लगी है। वही रिपोर्ट में मंथन करने के बाद जल्द ही पार्टी से भितरघात करने वाले और अनुशासनहीनता दिखाने वाले नेताओं पर सख्त एक्शन लिया जाएगा। राजीव सिंह का कहना है कि उपचुनाव में जिन लोगों ने भी पार्टी को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है। पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहे हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

Read More: कांग्रेस नेता का पार्टी से इस्तीफा, पूर्व मंत्री गोविंद सिंह पर लगाए ये गंभीर आरोप

इतना ही नहीं प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पार्टी कार्यालय प्रभारी राजीव सिंह ने बताया कि भिंड जिले से जिस तरह गोविंद सिंह (govind singh) के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित कर उनकी शिकायत मिल रही है। उस मामले में कांग्रेस जांच कर रही है। अगर वह जांच में दोषी पाए जाते हैं तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

वहीं अब भिंड (bhind) जिले में कांग्रेस के भितरघात और उपचुनाव (by-election) में हार पर बोलते हुए बीजेपी (bjp) ने भी कांग्रेस पर तंज करता है। मंत्री अरविंद भदौरिया (Arvind Bhadoria) का कहना है कि चुनाव में साफ हो गया है कि जनता ने कांग्रेस को पूरी तरह से ठुकरा दिया है और इसका मुख्य कारण पार्टी का अनुभवी नेताओं को प्रताड़ित किया जाना है।

Read More: उपचुनाव के बाद एक्शन में शिवराज, मंत्रियों को हर महीने देना होगा रिपोर्ट कार्ड, विभागों के काम की होगी रेटिंग

बता दें कि उपचुनाव में 19 सीटों पर करारी हार झेलने के बाद यह चर्चा का विषय बनी हुई थी कि क्या इसके बाद पार्टी अपनी हार पर मंथन करेगी और इस हार से सबक लेते हुए आगे की तैयारी में जुटेगी। वहीं इससे पहले पीसीसी चीफ कमलनाथ उपचुनाव के नतीजे के तुरंत बाद ही नई दिल्ली पहुंचे थे। जहां पार्टी हाईकमान से चर्चा करने के बाद वह भोपाल लौटे।

इसके साथ ही उपचुनाव में की गई हजारों नियुक्तियां भी कांग्रेस के लिए एक सवाल बनी हुई है। ऐसे में अब यह रिपोर्ट कार्ड पार्टी के विपरीत गतिविधि करने वाले नेताओं पर गाज गिराने की तैयारी में है। वही ऐसे पार्टी में बड़े बदलाव की भी उम्मीद नजर आ रही है। अब देखना है कि कांग्रेस पार्टी के अंदर मचे अंतर्कलह से निपटने में कितनी सक्षम रहती है।