इंदौर, आकाश धोलपुरे 

इंदौर में बीते 16 घण्टो से भी ज्यादा समय से हो रही बारिश अब आफत के रूप में नजर आ रही है। इसी बीच इंदौर के चोइथराम इलाके से दिल दहला देने वाला वीडियो भी सामने आया है। जिसमे देर रात 2 बजे से सुबह 7 बजे तक जीवन और मौत के संघर्ष के बीच झूल रहे एक युवक की जान रहवासियों की तत्परता के चलते युवक की जान बचा ली गई। जानकारी के मुताबिक युवक चोइथराम मंडी में हम्माली का काम करता है और देर रात वह अमितेष नगर की पुलिया को पार गड़बड़ी इलाके में अपने घर की ओर जा रहा था लेकिन पुलिया पर पानी का बहाव इतना तेज था कि युवक पुलिया को पार नही कर सका और खुद की जान बचाने के जाली पर ही बैठकर सुबह का इंतजार करने लगा।

इस बीच अलसुबह दीपेश नामक एक शख्स मौके से गुजरा और उसने युवक को जाली पकडकर खड़े रहने की समझाइश दी। इसके बाद डायल 100 को सूचना दी गई और फिर समाजसेवी लोकेंद्र दुबे मौके पर पहुंच गए। इसके बाद पुलिस की गाड़ी और फायर पुलिस को बुलाने का आश्वासन देकर चलती बनी। लेकिन लोकेंद्र दुबे और दीपेश ने हार नही मानी और एक जेसीबी वाले को बुलाया गया ताकि उसके सहारे युवक को निकाला जा सके। तकरीबन डेढ़ घण्टे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान एक दफा जेसीबी चालक ने भी जेसीबी डूब जाने के डर से आगे बढ़ने से मना कर दिया। तब लोकेंद्र और दीपेश नामक अमितेष नगर निवासी युवकों ने एक रस्सी मंगवाई और उसमें ईंट बांधकर युवक तक पहुंचाई इसके बाद रस्सी को जेसीबी के सहारे खींचा गया तब कही जाकर हम्माल युवक जिंदगी और मौत के भंवर से निकलकर बाहर आने में कामयाव हो सका। युवक की जान बचाने के बाद रहवासियों ने राहत की सांस ली और फिर युवक अपने घर की और रवाना हो गया।

इस मामले के सामने आने के बाद अब इंदौर प्रशासन की मुस्तैदी पर सवाल उठ रहे है क्योंकि मामले पुलिस को जानकारी मिल चुकी थी बावजूद उसके हम्माल युवक को बचाने के प्रयास प्रशासन द्वारा नही किये गए। फिलहाल, अमितेष नगर के रहवासियों के बुलंद हौंसलो ने युवक की जान बचाई जिसकी सराहना क्षेत्र के लोगो द्वारा की जा रही है वही प्रशासन को इस बात भनक भी अब तक नही लगी है। वही शहर के चांदमारी के भट्टे के इलाके में एक और युवक के बहने की जानकारी भी सामने आई है जहां प्रशासन की पड़ताल के लिए पहुंच गई है लेकिन सवाल ये उठ रहे है कि जब अमितेष नगर मामले में डायल 100 पहुंची थी तो क्यों आला अधिकारियों को मामले की जानकारी नही दी गई। इधर, इंदौर के धार रोड नावदा पंथ में दो कार डूब गई जिनमे एक ही परिवार के कई लोग सवार थे जिन्हें क्रेन क्रैन की मदद से निकालने की जानकारी भी सामने आई है।