जबलपुर।संदीप कुमार

एक जिंदादिल इंसान जो कि हमेशा खुश रहता हो,चाहे फिल्म का सेट हो या फिर रियलिटी शो जिस जगह भी यह इंसान जाता था। वहां पर हंसी ही गूंजती थी। हम बात कर रहे हैं 34 साल के स्वर्गीय सुशांत सिंह राजपूत की जिसने की मुम्बई में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।सुशांत की मौत से पूरा फिल्म जगत के कलाकार भी शोक में है। सारेगामा विनर ईशिता विश्वकर्मा ने भी सुशांत सिंह राजपूत को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस दौरान उन्होंने सुशांत सिंह के साथ साझा किए गए उन पलों को सामने रखा। ईशिता विश्वकर्मा के गानों की जमकर तारीफ करने वाले सुशांत सिंह के विषय मे ईशिता विश्वकर्मा कहती है एक उम्दा-खुशदिल इंसान कैसे मौत को गला लगा सकता है ये समझ से परे है अभी भी यकीन नही हो रहा है की वो अब हमारे बीच नही है। ईशिता ने बताया कि जब वो सारेगामा के सेट पर आए थे तो सभी प्रतियोगियों ने खूब हँसी मजाक किया था।सारेगामा के मंच पर जब सुशांत सिंह आए थे तो उन्होंने इतनी कम उम्र में अच्छा गायन को लेकर ईशिता की जमकर तारीफ भी की थी।फ़िल्म ऐक्ट्रेस सुशांत सिंह की मौत पर दुख जताते हुए ईशिता ने कहा कि हम कलाकारो के लिए ये समय बहुत ही खराब दौर का है,हम ढाई माह से लॉक डाउन है।

लॉक डाउन वन में अब सभी संस्थाएं धीरे धीरे खुल रहे है पर सरकार कलाकारों को राहत देने के मूड में कही से भी नही दिख रही है।ईशिता विश्वकर्मा ने कहा कि आज सरकार कलाकरों को भूल गई है। सुशांत सिंह की मौत पर ईशिता ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि एक अच्छा कलाकार जो सिर्फ हंसना जानता था वो क्यो आखिर डिप्रेशन में आ गए ये वजह हम सब लोगों को जाननी होगी।