सतना।पुष्पराज सिंह बघेल।
मध्य प्रदेश सरकार के प्रयास के बाद अब राजस्थान के कोटा से छात्र अपने घर पहुँच गए है ।सतना में भी 150 छात्र राजस्थान के कोटा से आज सतना अपने घर पहुँच कर राहत की सांस ले रहे है।दो दिन का सफर तय कर आख़िर मध्य प्रदेश के सतना जिले के150 छात्र आज अपने घर गए। जिन्हें सतना बार्डर के तहसील मुख्यालय नागौद में बनाये गए स्क्रीनिंग सेंटर में सबसे पहले उतारा गया। यहाँ सभी का ब्यौरा लेकर उनकी स्क्रीनिंग की गई। इसके बाद बच्चों को चाय नाश्ता दिया गया। लगभग एक घण्टे की इस प्रक्रिया के बाद अलग अलग चार रूटों की बसों से बच्चों को उनके घर भेजा गया। स्क्रीनिंग सेंटर में कलेक्टर खुद मौजूद रह कर करोना प्रोटोकाल का पालन करते हुए पूरी प्रक्रिया को पूरा किया।

वीओ-18 घंटे से अधिक का सफर मध्य प्रदेश सरकार द्वारा भेजी गई बसो से आज सतना के भी 150 छात्र अपने घर आ गए ।मध्य प्रदेश परिवहन बस आज सबसे पहले सतना बॉर्डर की नागौद तहसील पहुँची जहाँ करोना प्रोटोकाल से सम्बंधित सारी प्रक्रिया को पूरा किया गया इस दौरान बच्चों ने कोटा में लॉक डाउन के दौर अपने मुश्किल दिनों के हालात बताए। सतना पहुंचने की खुशी में सफर की थकान भी बेअसर हो गई। सभी के चेहरे भले ही थकान से भरे थे पर घर पहुंचने की खुसी से थकान भी बेअसर दिख रही थी।सभी छात्रो के स्क्रीनिंग सेंटर में सेनेटाइजर स्टाफ भी मौजूद था जिन बसों से बच्चे आये थे और जहां कुछ समय के लिए बच्चों को रोका गया था उसे सेनेटाइज किया गया पूरी प्रक्रिया सोशल डिस्टेंसिंग के दायरे में की गई परिसर में सोशल सर्कल बनाये गए थे। बच्चों को भी एक दूसरे से तय दूरी में खड़े होने की हिदायत दी गई थी ।सभी की जाँच उपरांत उन्हें घरों के लिए रवाना किया गया।