अमेरिका में गर्भपात कानून को रद्द करने पर सेलेना गोमेज ने दी अपनी प्रतिक्रिया, बताया असंवैधानिक

इससे पहले, गोमेज ने अपने ट्विटर पर लिखा था, एक संवैधानिक अधिकार को छीनते हुए देखना भयावह है। एक महिला को यह चुनने का अधिकार होना चाहिए कि वह अपने शरीर के साथ क्या करना चाहती है?

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। अमेरिकी अभिनेत्री और पॉपस्टार सेलेना गोमेज ने हाल ही में देश की सुप्रीम कोर्ट द्वारा रद्द किए गए गर्भपात कानून को असंवैधानिक बताया है। सेलेना मिस्ट्री कॉमेडी सीरीज ‘ओनली मर्डर्स इन द बिल्डिंग’ के अपने आगामी दूसरे सीजन के रेड कार्पेट प्रीमियर में भाग लेने पहुंची थी, जहां उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले पर नाराजगी जताते हुए कहा कि यह सिर्फ वोटिंग के बारे में है। इस फैसले के बाद पुरुषों को महिलाओं का साथ देने की जरुरत है। इस मुद्दे पर पुरुषों का स्टैंड बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है।

उन्होंने कहा, “यह महिलाओं की संख्या भी है जो चोट पहुंचा रही है। मैं खुश नहीं हूं और मुझे उम्मीद है कि हम इसे बदलने के लिए अपनी शक्ति से सब कुछ कर सकते हैं।”

ये भी पढ़े … 21 साल की न्यूज एंकर लक्षिका डागर बनी गांव की सरपंच, जन्मदिन पर मिला खास तोहफा

इससे पहले गोमेज ने ट्विटर पर एक पोस्ट करते हुए व्ही फैसले के खिलाफ अपनी नाराजगी जाहिर की थी। इस पोस्ट में उन्होंने प्लांड पेरेंटहुड की वेबसाइट के लिए एक लिंक साझा किया, जिसमें बताया गया कि राज्य स्तर में गर्भपात की पहुंच की रक्षा में मदद करने के लिए लोग आगे क्या कर सकते हैं।

इससे पहले, गोमेज ने अपने ट्विटर पर लिखा था, एक संवैधानिक अधिकार को छीनते हुए देखना भयावह है। एक महिला को यह चुनने का अधिकार होना चाहिए कि वह अपने शरीर के साथ क्या करना चाहती है?

महिलाएं कर चुकी है सेक्स स्ट्राइक

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने गर्भपात के संवैधानिक अधिकार को खत्म कर दिया है, जिसके बाद देश की महिलाओं का इसके खिलाफ गुस्सा फूटा और देश के अलग-अलग शहरों में विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने इस दौरान ट्विटर पर भी अपनी बात रखी है। देश में इस दौरान #Abstinence और #SexStrike ट्रेंड कर रहा है। महिलाओं का कहना है कि गर्भपात का कानूनी अधिकार जारी रहना चाहिए और इसके लिए पुरुष भी उनका साथ दे।

ये भी पढ़े … पीरियड्स का दर्द समझकर छात्रा टॉयलेट पहुंची तो हो गया बच्चा

लेकिन इस बीच महिलाएं पुरुषों की प्रतिक्रिया से नाराज हो गई है। उनका कहना है कि यदि आप एक पुरुष हैं और महिलाओं के अधिकारों के लिए सड़कों पर नहीं उतर सकते है, तो आप उनके साथ यौन संबंध बनाने के लायक नहीं हैं।