Selfie ने ली एक और जान, फोटो के चक्कर में 12 वर्षीय किशोरी ने लगाई फांसी

बच्ची घर पर कुर्सी पर खड़ी होकर फांसी लगाकर सेल्फी (Selfie) ले रही थी। इस दौरान बैलेंस बिगड़ा और कुर्सी सरक गई, जिससे फंदा गले में तेजी से कस गया और मासूम की मौत (Death) हो गई।

उमंग सिंघार

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है, जिसमें सेल्फी (Selfie) के चक्कर में एक 12 साल की किशोरी की जान चली (lost Life) गई। जिस मोबाईल (Mobile) को हम सुविधा और जरूरत की दृष्टि से अपने जीवन का अहम हिस्सा बना चुके है, उसी मोबाईल के चक्कर में कई बार लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है। कुछ ऐसा ही मामला इंदौर (Indore) से सामने आया है जहां एक 12 वर्षीय किशोरी की जान मोबाईल से सेल्फी (Selfie) खींचने के चक्कर मे चली गई।

मामला सेल्फी विथ फांसी (Selfie With Phansi) का है। घटना इंदौर (Indore) के एरोड्रम थाना क्षेत्र की है, जहां के वैष्णवी नगर में रहने वाली 12 साल की बच्ची की सेल्फी (Selfie) के चक्कर में जान चली गई। बच्ची घर पर कुर्सी पर खड़ी होकर फांसी लगाकर सेल्फी ले रही थी। इस दौरान बैलेंस बिगड़ा और कुर्सी सरक गई, जिससे फंदा गले में तेजी से कस गया और मासूम की मौत हो गई।

जानकारी के मुताबिक माँ वैष्णो देवी नगर में रहने वाली 12 साल की आयुषी पिता अर्जुन सोलंकी अपने कमरे में थी। काफी देर तक उसके बाहर नहीं आने पर परिजन जब उसके कमरे में गए तो वह फंदे पर लटकी मिली। बेटी को फंदे पर देख परिजन बदहवास हो गए। पड़ोसियों की मदद से बच्ची को नीचे उतारा गया, लेकिन तब तक उसकी सांसें थम चुकी थीं।

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल पहुंचाया। पुलिस के अनुसार फांसी लगाने के कारणों का तो पता नहीं चल पाया है। जांच अधिकारी मनमोहन ठाकुर ने बताया कि प्रारंभिक तौर पर यह बात सामने आई है कि बच्ची ने सेल्फी के लिए फंदा गले में डाला था। इस दौरान कुर्सी सरक गई, जिस कारण वह फंदे पर लटक गई। पुलिस मामले में जांच के बाद ही सही कारण पता चलने की बात कह रही है।