कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का इलाज के दौरान निधन, पार्टी में शोक की लहर

हालांकि बुधवार को सुरेंद्र मिश्रा हॉस्पिटल से अपने घर वापस आ गए थे लेकिन गुरुवार को फिर से उनकी तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने उन्हें मेदांता में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

खूंटी, डेस्क रिपोर्ट। शुक्रवार की रात एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता (congress leader)  का निधन हो गया है। कांग्रेस नेता की तबियत पिछले कुछ दिनों से खराब चल रहा था। जिसके बाद उन्हें अस्पताल (hospital) में भर्ती कराया गया था। हालांकि उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी लेकिन गुरुवार को फिर उनकी तबीयत बिगड़ी। वहीं शुक्रवार को अस्पताल में इलाज के दौरान उन्होंने अंतिम सांस ली।

दरअसल मामला खूंटी जिले का है जहां वरिष्ठ कांग्रेसी नेता 81 वसी सुरेंद्र कुमार मिश्रा (surendra kumar mishra) का शुक्रवार को निधन हो गया। वह मेदांता अस्पताल में भर्ती थे। जहां उनका इलाज किया जा रहा था। बता दें कि इससे पहले हार्ट (heart) में ब्लॉकेज के कारण उन्हें 1 सप्ताह पहले पल्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल में उन्हें पेसमेकर लगाया गया था। हालांकि बुधवार को सुरेंद्र मिश्रा हॉस्पिटल से अपने घर वापस आ गए थे लेकिन गुरुवार को फिर से उनकी तबीयत बिगड़ने पर परिजनों ने उन्हें मेदांता में भर्ती कराया। जहां इलाज के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

Read More: MP: उच्च शिक्षा विभाग का आदेश-अगर ऐसा नहीँ किया तो कैंसिल होगा एडमिशन

वरिष्ठ कांग्रेसी नेता 81 वर्षीय सुरेंद्र मिश्रा की मौत पर पूर्व विधायक सहित भाजपा, कांग्रेस और राजद के प्रमुख नेता एवं कार्यकर्ता उनके निवास स्थान पर पहुंचे। सुरेंद्र मिश्रा के आकस्मिक निधन पर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ने शोक व्यक्त किया। कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव का कहना है कि सुरेंद्र मिश्रा पार्टी के मजबूत और कर्मठ कार्यकर्ता और नेता थे। उनके निधन से पार्टी को अपूरणीय क्षति हुई है। इसके साथ ही कांग्रेस विधायक दल के नेता ने कहा कि सुरेंद्र मिश्रा के निधन से पार्टी ने एक सच्चे नेता को खो दिया है।

बता दें कि सुरेंद्र मिश्र समाजसेवी होने के साथ-साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व उपाध्यक्ष और सह कार्यालय प्रभारी भी रह चुके हैं। उन्होंने हमेशा गरीब और पीड़ित की आवाज बनकर उनकी मांग को सामने रखा है। उनके निधन से पार्टी में शोक की लहर दौड़ पड़ी है।