अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिये प्रदेश को कोरोना की आग में धकेल रही शिवराज सरकार..कमलनाथ

762

भोपाल।

एक तरफ शराब ठेकेदारों(Liquor contractors) और प्रदेश की शिवराज सरकार(shivraj government) के बीच विवाद सुलझ नही पा रहा है। वही दूसरी विपक्ष की घेराबंदी जारी है। कोरोना वायरस(coronavirus) के बढते मामलों के बीच शिवराज(shivraj) सरकार के शराब दुकानों के फैसले पर सरकार कांग्रेस(congress) लागातार हमले बोल रही है। अब पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ(former primeminister kamalnath) ने ट्वीट(tweet) कर तीखें वार किए है।नाथ रेड जोन(red zone) वाले क्षेत्रों में शराब(liquor) की दुकाने खोलने का निर्णय को बेहद शर्मनाक बताया है। नाथ का कहना है कि शिवराज सरकार सिर्फ़ अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिये प्रदेश को कोरोना की आग में धकेल रही है।

दरअसल शुक्रवार को ट्वीट करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि इस लॉकडाउन में धार्मिक स्थल, स्कूल – कॉलेज, सब कुछ बंद है लेकिन प्रदेश की मदिरा प्रेमी सरकार ने शराब की दुकानें ज़रूर खुलवा रखी है। जब रेड ज़ोन में लोगों को आवश्यक वस्तु दूध-दवाई-सब्ज़ी तक भले नहीं मिल पा रही है। हर चीज़ पर पाबंदी लगी हुई है लेकिन सरकार उन्हें शराब ज़रूर मुहैया करवाने जा रही है। वहीँ कमलनाथ ने कहा है कि रेड जोन जैसे इलाकों में जहाँ संक्रमण इस कदर तेज है। इन क्षेत्रों में शराब की दुकाने खोलने का निर्णय बेहद शर्मनाक होकर रेड झोन में कोरोना के संक्रमण को और बढ़ायेगा।पूर्व मुख्यमंत्री नाथ ने कहा कि शिवराज सरकार सिर्फ़ अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिये प्रदेश को कोरोना की आग में धकेल रही है। प्रदेश को मदिरा प्रदेश बनाने में लगी हुई है। नाथ ने सरकार पर निशान साधते हुए कहा कि यह वही लोग है जो विपक्ष में बैठकर शराब पर बड़े-बड़े भाषण देते थे, विरोध करते थे, धरने देते थे। इसे बहन-बेटियों के लिये ख़तरा बताते थे। सरकार में आते ही इनकी प्राथमिकता जनता नहीं शराब की बिक्री हो गयी है।

लॉकडाउन में सब कुछ बंद पर शिवराज सरकार में सब कुछ चालू

वहीँ एक अन्य ट्वीट में पूर्व मुख्यमंत्री नाथ ने कहा कि देश भर में कोरोना महामारी के इस लॉकडाउन में सब कुछ बंद है लेकिन हमारे मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार में इस लॉकडाउन में सब कुछ चालू है। हत्या, बलात्कार, गेंगरेप, भ्रष्टाचार, घोटाले, फ़र्ज़ीवाडे, किसानो की पिटाई, माफिया राज, शराब की दुकाने, चोरी, लूट, भूख से मौत और अब तो दो माह की सरकार में ही प्रदेश की नदियों से रेत का अवैध उत्खनन का कारोबार वापस ज़ोरों पर है। प्रदेश की नदियों को छलनी करने का काम एक बार फिर ज़ोरों पर , रेत माफ़ियाओ के हौसले बुलंद , खुला संरक्षण , जमकर अवैध वसूली हो रही है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here