उपचुनाव से पहले एक बड़ा मास्टरस्ट्रोक लगाने की तैयारी में शिवराज सरकार

भोपाल।

सत्ता में रहकर शिव ‘राज’ के घोटालों और भ्रष्टाचारों की जांच करवाने वाली पिछली कमलनाथ सरकार(kamalnath sarkar) अब शिवराज सरकार (shivraj sarkar)के निशाने पर आ गई है। खबर है कि शिवराज सरकार जल्द ही कमलनाथ सरकार में हुए भ्रष्टाचार (corruption) की जांच करवाने की तैयारी में है।खास करके किसानों की कर्जमाफी और तबादलों को लेकर। इसके लिए खुद गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Narottam Mishra) ने संकेत दिए है। मिश्रा ने कांग्रेस सरकार (Congress Government) के कार्यकाल के दौरान हुए भ्रष्टाचार की जांच के लिए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की कमेटी(Committee of group of ministers) बनाने की सीएम शिवरास सिंह चौहान(cm shivraj singh chouhaan) से मांग की है।

उपचुनाव(by election) से पहले सरकार का ये कदम मास्टरस्ट्रोक साबित हो सकता है, चुंकी सत्ता से हटने के बाद से ही कांग्रेस सिंधिया (scindia)और बीजेपी(bjp) को निशाने पर लिए हुए है,ऐसे में कांग्रेस के भ्रष्टाचार उजागर कर बीजेपी बड़ा दांव खेल सकती है।बीजेपी के इस कदम ने कांग्रेस में हलचल पैदा कर दी है। कांग्रेस जमकर पलटवार कर रही है।

दरअसल, बीजेपी कांग्रेस सरकार के आखिरी 6 महीने में हुए फैसलोंं की जांच कराने की तैयारी कर रही है। सरकार को आशंका है कि सत्ता जाने के पहले तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने गलत तरीके से फैसले लेकर भ्रष्टाचार (Corruption) को बढ़ावा दिया। कमलनाथ सरकार में हुए फैसलों में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार हुआ है।शुक्रवार को शिवराज मंत्रिमंडल की बैठक में मंत्रियों ने सीएम से पूर्व कांग्रेस सरकार में हुए भ्रष्टाचार की जांच करने की मांग उठाई है।

मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान हुए भ्रष्टाचार की जांच की मांग की है, इसके लिए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स की कमेटी बनाने की सीएम शिवरास सिंह चौहान से मांग की है। मंत्री ने बताया कि पूर्व सरकार में तबादला उद्योग पनपा था जिसमें बड़े स्तर पर लेनदेन किया गया था। इसके अलावा आखिरी समय में लिए गए फैसलों में भी भ्रष्टाचार होने की संकेत मिले हैं ऐसे में अब सरकार चाहती है कि पूरे मामले की जांच कर तथ्यों का पता लगाया जाए। वही उन्होंने कहा कि अब प्रत्येक मंगलवार को कैबिनेट की बैठक होगी।