MP: आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के लिए राज्य शासन का फैसला, निभानी होगी यह जिम्मेदारी

वही अनुरोध किया जाता है अब ऐसी स्थिति में एक और नई जिम्मेदारी उनके लिए चुनौतीपूर्ण है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। शिवराज सरकार (shivraj government) आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को राहत देने के मूड में नहीं है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं पर लगातार नई जिम्मेदारी दी जा रही है। टीकाकरण से लेकर गर्भवती महिलाओं की जानकारी और बीएलओ (BLO) के काम के बाद अब राज्य शासन ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नई जिम्मेदारी देने जा रही है। इस संबंध में महिला बाल विकास विभाग (Women Child Development Department) ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की सूची मांगी है।

दरअसल नई जिम्मेदारी के तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को हर महीने की 7 तारीख को राशन दुकानों पर जाकर अन्न उत्सव के तहत राशन बनवाने का कार्य भी करना होगा। इस मामले में विभाग ने सभी परियोजना अधिकारी को निर्देश जारी किए हैं। इस कार्य के लिए प्रदेश के हर जिले में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हर महीने की 7 तारीख को राशन की दुकानों पर पहुंचेंगे। वही लोगों के बीच राशन दुकानों पर जाकर राशन बांटेंगे।

Read More: एक्शन में सीएम शिवराज, नए साल में कलेक्टर-कमिश्नर की लेंगे पहली बैठक

इस बात पर कई आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की शिकायत है कि उन्हें पहले से ही कई जिम्मेदारी दी गई है जहां प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत उन पर अनेक लक्ष्य का बोझ है। वहीं दूसरी तरफ कोरोना के सर्वे गर्भवती महिलाओं की जानकारी जुटाने और टीकाकरण से लेकर चुनाव में बीएलओ का काम सौंपा गया है।

वहीं कार्यकर्ताओं की शिकायत है कि स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा गर्भवती महिलाओं की जानकारी उन तक नहीं पहुंचाई जा रही है। जिससे उन्हें खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। एक केस कम होने की स्थिति में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में कटौती की जाती है। वही अनुरोध किया जाता है अब ऐसी स्थिति में एक और नई जिम्मेदारी उनके लिए चुनौतीपूर्ण है।