उपचुनाव से पहले सौगात: शिवराज सिंह चौहान का बड़ा ऐलान, खातों में राशि ट्रांसफर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) को संबोधित करते हुए  मध्यप्रदेश में बेटियां बोझ नहीं, लाडली लक्ष्मी योजना में लखपति होती हैं।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। खंडवा उपचुनाव (Khandwa By-election)s से पहले मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (MP CM Shivraj Singh Chouhan) ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि नगर परिषद पंधाना में रु. 5 करोड़ की राशि विकासकार्यों के लिए दी जाएगी। छैगांवमाखन को नई तहसील बनाया जाएगा। बलखड़ में नवीन उपस्वास्थ्य केंद्र खोला जाएगा।जिन गरीबों का अपना मकान नहीं है, हमने फिर से सर्वे करवाया है और अब पंधाना विधान सभा क्षेत्र में 8 हजार और गरीबों के मकान बनाये जायेंगे।मध्यप्रदेश की धरती पर कोई गरीब बिना आशियाने के नहीं रहेगा।

यह भी पढ़े.. MP Weather : आज 13 जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, 5 संभागों में बिजली गिरने के आसार

आज खंडवा में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहानको संबोधित करते हुए  मध्यप्रदेश में बेटियां बोझ नहीं, लाडली लक्ष्मी योजना (Ladli Laxmi Yojana) में लखपति होती हैं। 39 लाख 90 हजार बेटियां मध्यप्रदेश की धरती पर हैं और आज हमने 75 हजार लाडली बेटियों के खाते में स्कॉलरशिप का पैसा जमा किया है। आज 10 हजार पोषण वाटिकाओं का लोकार्पण किया है। मेरी बहनें स्वस्थ रहेंगी, तो उनके बेटा-बेटी भी स्वस्थ रहेंगे। प्रदेश की धरती पर कोई बच्चा कुपोषित(malnourished) न रहे, इसके लिए हम सबको संकल्पित प्रयास करना होगा।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश के 4 करोड़ और 90 लाख नागरिकों को नि:शुल्क और एक रुपये किलो गेहूं, चावल देने का काम भारतीय जनता पार्टी ने ही किया। प्रदेश के जनजातीय बाहुल्य 89 विकास खण्डों में घर-घर राशन पहुंचाने की हमने योजना बनाई है।  कांग्रेस (MP Congress) ने नहीं, हमने एक रुपये प्रति किलो में राशन देने का कार्य किया। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(PM Modi) जी धन्य हैं जिन्होंने गरीबों को नवंबर माह तक मुफ्त राशन प्रदान किया।

यह भी पढ़े.. MP के कर्मचारियों में बढ़ा आक्रोश, महंगाई भत्ते-प्रमोशन को लेकर दी बड़ी चेतावनी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस सीएम राइज स्कूल (CM Rise School) हम खोलेंगे। 18 से 24 करोड़ की लागत से बनने वाले इन स्कूलों में किसानों, गरीबों के बच्चे भी पढ़कर अपने सपनों को साकार कर सकेंगे। सामाजिक समरसता के साथ सभी को सामाजिक न्याय दिया जाएगा। हम सब भारत माँ के लाल, भेदभाव का कहाँ सवाल!मुझे उधर भी लेना पड़ा, तो भी मैं लूंगा और आप सभी को लाभ पहुँचाउंगा।